Sports

 

हटरगेनबॉश (हॉलैंड) : भारतीय रिकर्व पुरुष तीरंदाजी टीम 14 साल के लंबे अंतराल के बाद विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंची लेकिन रविवार को स्वर्ण मुकाबले में उसे चीन के हाथों 2-6 से हारकर रजत पदक से संतोष करना पड़ा। तरुणदीप राय, अतानु दास और प्रवीण जाधव ने इस चैंपियनशिप के क्वाटर्रफाइनल में पहुंचने के साथ ही भारत को अगले साल होने वाले टोक्यो ओलम्पिक खेलों के लिए तीन ओलम्पिक कोटा स्थान दिला दिए थे और अब उन्होंने रजत पदक जीता।

14 वर्ष पहले भी भारतीय टीम 2005 में मैड्रिड में हुई विश्व चैंपियनशिप के फाइनल तक पहुंची थी और तब भी उसे रजत पदक मिला था। 2005 की टीम के सदस्यों में तरुणदीप राय, जयंत तालुकदार, रॉबिन हंसदा और गौतम सिंह शामिल थे। तरुणदीप 14 साल के बाद विश्व चैंपियनशिप में रजत जीतने वाली भारतीय टीम में भी शामिल रहे। भारतीय तिकड़ी ने कनाडा को 5-3 से हराकर क्वाटर्र फाइनल में जगह बनायी थी और फिर क्वाटर्फाइनल में चीनी ताइपे को 6-0 से हराकर और सेमीफाइनल में मेजबान हॉलैंड को शूटऑफ में 5-4 से पराजित कर स्वर्ण पदक मुकाबले में स्थान बनाया था लेकिन फाइनल में भारतीय टीम चीन की चुनौती से पार नहीं पा सकी। चीन ने 6-2 से स्वर्ण पदक जीत लिया।

पहले सेट में स्कोर 53-53 से बराबर रहा जबकि चीन ने दूसरा सेट 58-51 से जीत लिया। तीसरा सेट 56-56 से बराबर रहा जबकि चौथा सेट चीन ने 57-52 से जीतकर मुकाबला 6-2 से अपने पक्ष में कर लिया। इससे पहले कोरिया ने मेजबान हॉलैंड को 5-3 से हराकर कांस्य पदक जीता।  

.
.
.
.
.