Sports

लीड्स : न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट में एक बार फिर से जॉनी बेयरस्टो का बल्ला चला। न्यूजीलैंड द्वारा पहली पारी में बनाए गए 329 रनों के जवाब में इंगलैंड ने एक समय 55 रन पर छह विकेट गंवा दिए थे। लेकिन अभी बेयरस्टो ने नए बल्लेबाज जेमी ओवरटन के साथ मिलकर 209 रन की साझेदारी की और इंगलैंड को खराब स्थिति से बाहर निकाल लिया।

शतक लगाने के बाद जॉनी ने प्रेस वार्ता में कहा- मैं हमेशा से इस तरह खेलने की क्षमता रखता हूं। मेरा खयाल है कि यह मेरा व्यक्तित्व है जो अब उभर कर आ रहा है। मैं अब क्रीज पर ज्यादा सहज महसूस कर रहा हूं, मुझपर कोई खास दबाव नहीं है। बेयरस्टो ने इससे पहले ट्रेंट ब्रिज टेस्ट में भी शानदार शतक जड़ा था, जिसकी बदौलत इंग्लैंड ने 50 ओवर के अंदर ही 299 रन के लक्ष्य को हासिल कर लिया था। 

 

बेयरस्टो बोले- मैं युवा जॉनी बन गया हूं, जहां मैं गेंद को देख पा रहा हूं। कई बार कई तरह की चीज़ों पर बकवास की जाती है, कई बार ये आपके दिमाग में घर कर जाती हैं। मुझे उन लोगों की बातें सुननी हैं जो मेरे लिये मायने रखते हैं और अभी मैं वही कर रहा हूं। मेरे लिए सबसे जरूरी है कि मैं अपने अंदाज में खेलूं। बेयरस्टो ने कहा कि बेन स्टोक्स की कप्तानी और ब्रेंडन मैकुलम की कोचिंग में टीम चीजों को सरल रखने की कोशिश कर रही है।

 

टेस्ट क्रिकेट में 10 शतक लगा चुके बेयरस्टो ने कहा कि आप या तो अपना स्वाभाविक खेल खेल सकते हैं, या वैसे खेल सकते हैं जैसे क्रिकेटर सालों से खेलते आए हैं, लेकिन आपको मैच का रुख बदलने की जरूरत होती है। दूसरे दिन चाय तक इंग्लैंड 91/6 पर खेल रही थी। जब बेयरस्टो से पूछा गया कि तीसरे सत्र से पहले उन्हें क्या निर्देश दिए गए, तो उन्होंने कहा- गुड लक, मैच का आनंद लो। सिर्फ इतना ही कहा गया था। बेयरस्टो के शब्द इंग्लैंड के नये मंत्र को प्रतिबिंबित करते हैं।

बता दें कि दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक बेयरस्टो 126 गेंदों पर 21 चौकों की मदद से 130 रन बना चुके हैं। उनके साथी ओवरटन ने भी 106 गेंदों पर 89 रन बना लिए हैं और इंग्लैंड 264/6 के स्कोर पर पहुंच गई है। 

.
.
.
.
.