Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय टीम को दक्षिण अफ्रीका से तीसरे और निर्णायक टेस्ट मैच में 7 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। इस मैच के साथ ही भारत ने 2-1 से सीरीज भी गंवा दी। द. अफ्रीका के खिलाफ भारतीय बल्लेबाजों का प्रदर्शन निराशाजनक रहा और कोई भी बल्लेबाज अहम मौकों पर बड़ी पारी में खेलने में कामयाब नहीं हो पाया। इस हार के बाद पूर्व दिग्गज बल्लेबाज सुनील गावस्कर काफी निराश हैं और उन्होंने इस हार का ठीकरा भारतीय बल्ल्बाजों के सिर मढ़ा है।

गावस्कर ने कहा कि भारतीय टीम द.अफ्रीका की किला फतह नहीं कर पाई। जिस तरह से द. अफ्रीका की टीम ने पहले मैच के बाद वापसी की इससे यह पता है चलता है कि उन्होंने पहली हार के बाद आकलन किया और दोबारा सीरीज में वापसी की। इस सीरीज में द. अफ्रीका की टीम ने अपनी गलतियां सुधारी पर भारतीय टीम ऐसा नहीं कर पाई। 

गावस्कर ने आगे कहा कि भले ही इन द. अफ्रीका कि इन परिस्थितियों में बल्लेबाजी करना थोड़ा मुश्किल है। पर जहां भी गेंद ने थोड़ी सी हरकत की वहां भारतीय बल्लेबाजों की तकनीक की पोल खुलकर सबके सामने आई गई। वहीं द. अफ्रीका के बल्लेबाजों ने क्रीज पर टिके रहने का हौंसला दिखाया और भारतीय गेंदबाजी के सामने रन बनाए। अगर भारतीय टीम दूसरे और तीसरे टेस्ट मैच में 70 रन और बना लेती तो द. अफ्रीका के बल्लेबाजों की परीक्षा ली जा सकती थी।

गावस्कर ने भारतीय गेंदबाजों की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने इस सीरीज में पूरे दिल से गेंदबाजी की और अपना सबकुछ  झोंक दिया। पर भारतीय बल्लेबाजों ने अपने गेंदबाजों को इतने रन ही नहीं दिए कि वह उसे बचा पाए। भारतीय टीम ने अपना फोकस खोया और मेजबान टीम के बल्लेबाजों ने उनका फायदा उठाकर रन बटोरे। लंच के बाद तो भारतीय टीम ने सरेंडर कर दिया जो कि सबसे निराशाजनक रहा।

.
.
.
.
.