Sports

नई दिल्लीः एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले मुक्केबाज अमित पांघल ने बुधवार को कहा कि ओलंपिक पदक की तलाश में वह 52 किग्रा वर्ग में खेलने की तैयारी के लिए भारतीय सेना की मदद से अमेरिका में मांसपेशियों की मजबूती का ट्रेनिंग ले सकते हैं।           

पूरा ध्यान तोक्यो ओलंपिक पर
हरियाणा के मायना गांव के 22 साल के इस खिलाड़ी ने एशियाई खेलों में 49 किग्रा वर्ग में देश के लिए स्वर्ण पदक जीता। वह एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले के देश के सिर्फ आठवें मुक्केबाज हैं। ऐसे कयास लगाये जा रहे हैं कि ओलंपिक में महिलाओं की स्पर्धा को जगह देने के लिए पुरूषों के 49 किग्रा वर्ग को हटाया जा सकता है। अमित ने भारतीय सेना द्वारा आयोजित सम्मान समारोह के दाैरान कहा, ‘‘ एशियाई खेलों में 49 किग्रा वर्ग में मेरा आखिरी मुकाबला था। अब मेरा पूरा ध्यान तोक्यो ओलंपिक पर है और उसके लिए मैं 52 किग्रा वर्ग में हिस्सा लूंगा। वजन बढऩे की चुनौती आसान नहीं होगी। इससे बड़ी चुनौती नये भार वर्ग में खुद को ढाल पाने की होगी।’’        
PunjabKesari  

इससे पहले राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीतने वाले इस सेना के इस नायब सूबेदार ने कहा, ‘‘ मुझे कहा गया है कि मांसपेशियों की मजबूती के लिए विशेष प्रशिक्षण के लिए मुझे अमेरिका भेजा जा सकता है। मेरे पास अभी ज्यादा जानकारी नहीं है। सेना मेरा खर्च उठाने को तैयार है लेकिन इसका विस्तृत खाका भारतीय मुक्केबाजी संघ से बातचीत के बाद ही तैयार होगा। हमारे कोच सैंटियागो सर (निएवा) और (सीए) कुट्टप्पा सर मेरे साथ जाएंगे।’’ उन्होंनें कहा, ‘‘ मुझे उच्च वजन वर्ग की चुनौतियों के बारे में पता है। इसमें विरोधी खिलाड़ी की लंबाई ज्यादा होगी और मुक्के शक्तिशाली होंगे लेकिन मैं नयी चुनौती के लिए तैयार हूं।’’          
 

.
.
.
.
.