Sports

शंघाई: ग्रैंड स्लेम बादशाह स्विटजरलैंड के रोजर फेडरर ने टेनिस के 'बैड ब्वॉय’ के रूप में बदनाम हो गए आस्ट्रेलिया के निक किर्गियोस को शंघाई मास्टर्स टेनिस टूर्नामेंट के दौरान चेयर अंपायर के साथ बहस करने पर खेल के सिद्धांतों का पालन करने की मंगलवार को नसीहत दी। 23 वर्षीय किर्गियोस ने पुरूष एकल के पहले राउंड मैच के दौरान चेयर अंपायर से बहस की थी। अमेरिकी क्वालिफायर ब्रैडली क्लान ने 38वीं रैंक आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी को 4-6, 6-4, 6-3 से शिकस्त दी। शंघाई मास्टर्स में यह तीसरी बार है, जब किर्गियोस को शुरूआती राउंड में हारकर बाहर होना पड़ा है।  मैच के दौरान ‘बार्डरलाइन’ को लेकर किर्गियोस ने चेयर अंपायर के फैसले पर सवाल करते हुए उनसे बहस की थी। 
PunjabKesari
कोर्ट पर अपने खराब व्यवहार को लेकर हमेशा ही सुर्खियों में रहने वाले किर्गियोस को लेकर फेडरर ने नाराजगी जताते हुए कहा कि आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी में प्रतिभा है लेकिन उनके लिये यह तभी कारगर होगी जब वह खेल भावना का पालन करेंगे। 37 वर्षीय अनुभवी खिलाड़ी ने कहा, मुझे लगता है कि यह किर्गियोस पर निर्भर करता है कि वह कहां जाना चाहते हैं। मुझे लगता है कि वह खुद ही अपनी प्रतिभा को नहीं जानते हैं। लेकिन वह अपने खेल के सिद्धांतों को जानकर ही आगे बढ़ सकते हैं।
PunjabKesari
किर्गियोस का शंघाई मास्टर्स में काफी खराब अनुभव रहा है। गत वर्ष पहले राउंड के मैच के बीच में कोर्ट से चले जाने पर उनपर जुर्माना लगाया गया था जबकि 2016 में उन्हें निलंबित कर दिया गया था। फेडरर ने कहा, बड़े टूर्नामेंटों में खेलना और इस तरह से हरकतें करना उनके लिए ठीक नहीं है। आपको सफल होने के लिए अपने व्यवहार में भी सुधार करने की जरूरत है।  

.
.
.
.
.