Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने हाल ही में साल 2008 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर हुए मंकीगेट विवाद मामले पर बयान दिया है। हरभजन सिंह ने मंकीगेट विवाद को लेकर बताया कि सिडनी टेस्ट मैच के दौरान दर्शकों द्वारा लगातार मेरे धर्म पर टिप्पणी की जा रही थी।   

हरभजन सिंह ने कहा कि मैदान पर (रहते हुए) मुझसे जो बातें कही गईं कि तुम्हारे सिर पर अंडकोष है। मेरे धर्म के प्रति ऐसा अपमान सुनना मेरे लिए सबसे कठिन बात थी। मैंने तब अपना मुंह नहीं खोला क्योंकि अगर मैं ऐसा करता तो इससे और विवाद होते।

हरभजन ने आगे कहा कि जाहिर तौर पर मैं परेशान था। मुझे समझ नहीं आ रहा था कि ऐसा क्यों हो रहा है। जो हुआ ही नहीं था उसके लिए इतना कुछ क्यों। जो बात मैंने नहीं कही थी उसके लिए उनके पास 6 से 7 गवाह थे। किसी ने इसे नहीं सुना था और फिर भी इसे मीडिया में काफी उछाला गया। 

वहीं सचिन तेंदुलकर ने इस मामले पर हरभजन के हक में गवाही दी थी। सचिन ने अपनी ऑटोबायोग्राफी में लिखा था कि सिडनी के मैदान में सायमंड्स लगातार हरभजन पर कमेंट कर रहे थे। मैंने हरभजन सिंह को सायमंड्स को तेरी मां की कहते हुए सुना। जो उत्तर भारत में लोग गुस्से में कह देते हैं। मेरे लिए यह सब एक खेल का हिस्सा है।

गौर हो कि साल 2008 में ऑस्ट्रेलिया में हुई बॉर्डर गावस्कर सीरीज के सिडनी टेस्ट मैच के दौरान एंड्रयू सायमंड्स ने हरभजन पर नस्लीय टिप्पणी के आरोप लगाए थे। यह विवाद काफी गहरा गया था क्योंकि भारतीय टीम दौरा बीच में छोड़ने के लिए तैयार हो गई थी और पूरी टीम हरभजन के साथ खड़ी हो गई थी। 
 

.
.
.
.
.