Sports

नई दिल्ली : विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में पदक हासिल करने और देश को ओलम्पिक कोटा दिलाने के प्रबल दावेदार पहलवान बजरंग पुनिया इस टूर्नामेंट के लिए अपनी तैयारी को मजबूत करने के लक्ष्य को लेकर रूस पहुंच गए हैं। दुनिया के नंबर एक पहलवान बजरंग ने जॉर्जिया में तिबलिस अंतररष्ट्रीय टूर्नामेंट में स्वर्ण जीतने के साथ ही नया इतिहास रच दिया था। इस पदक के साथ वह पिछले छह टूर्नामेंटों में पांच स्वर्ण और एक रजत जीतने वाले एकमात्र पहलवान बन गए हैं। बजरंग इस जीत के बाद वह विश्व चैंपियनशिप के लिए अभ्यास करने रूस पहुंच गए हैं। 

बजरंग रूस में कुछ दिन अभ्यास के बाद भारत लौटेंगे। बजरंग के गुरु और ओलंपिक मेडलिस्ट योगेश्वर दत्त ने उनकी उपलब्धि पर खुशी जताई है। योगी ने कहा कि बजरंग से वल्डर् चैंपियनशिप और ओलंपिक दोनों में पदक की उम्मीद है। वहीं, बजरंग के पदक जीतने पर परिवार के लोग काफी खुश हैं और उन्होंने उम्मीद जताई है कि बजरंग वल्डर् चैंपियनशिप में भी स्वर्ण जीत ओलंपिक का टिकट पक्का करेगा। जॉर्जिया में 7-10 अगस्त तक हुए तिबलिस अंतररष्ट्रीय टूर्नामेंट में शुक्रवार को स्वर्ण जीतने के साथ ही बजरंग के नाम नया इतिहास जुड़ गया।

ऑस्ट्रेलिया में अप्रैल 2018 में हुए राष्ट्रमंडल खेलों से शुरू हुआ पदक जीतने का सफर लगातार जारी है। बजरंग ने 18 अप्रैल से अभी तक छह टूर्नामेंट खेले और इन सभी में पदक जीते हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि इन पदकों में पांच स्वर्ण और एक रजत शामिल है। बजरंग ने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण, एशियाई खेलों में स्वर्ण, हंगरी में पिछले वर्ष विश्व चैंपियनशिप में रजत, इस साल चीन में हुई एशियन चैंपियनशिप में स्वर्ण, बुलगारिया में हुए अली अलीयेव अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में स्वर्ण और जॉर्जिया में हुए तिबलिस अंतररष्ट्रीय टूर्नामेंट में स्वर्ण पदक जीता है। 

.
.
.
.
.