International

इंटरनैशनल डेस्कः स्टीफन हॉकिंग के बारे में आपने बहुत सी बातें पढ़ीं होंगी लेकिन कुछ ऐसी भी बातें हैं। जो उनके व्यक्तित्व के एक अलग और मनमौजी पहलू को सामने लाती हैं। अपंगता के बाद भी वह जीवन के हर लम्हे का आनंद लेते थे वह अपनी व्हील चेयर को इस तरह भगाते थे मानो कार चला रहे हों। 60 के दशक में अपनी बीमारी का पता लगने के बाद से स्टीफन हॉकिंग को व्हील चेयर का सहारा लेना पड़ा. धीरे धीरे उनकी व्हील चेयर तमाम तकनीक से जुड़ती चली गई। 
 PunjabKesari
कनक्टिविटी स्टेट यूनिवर्सिटी में एस्ट्रोनॉमी की प्रोफेसर क्रिस्टीन एम लार्सन ने स्टीफन हॉकिंग की बॉयोग्राफी लिखी है। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा कि मैने उन्हें वाइल्ड तरीके से व्हीलचेयर दौडाते देखा है। ये व्हीलचेयर मोटर से चलती थी। वो इसे तेजी से चलाते थे। एक बार तो एक समारोह में इसे इतनी तेजी से लेकर निकले कि प्रिंस चार्ल्स के अंगूठे के ऊपर से ही इस दौड़ा दिया।
PunjabKesari
उनकी एक और बॉयोग्राफर किटी फर्गुसन कहती हैं, वह कहते थे कि उन्हें अफसोस है कि उन्होंने कभी मार्गरेट थैचर के अंगूठे के साथ ऐसा क्यों नहीं किया हालांकि जब लोग उनसे जाकर ये बात पूछते थे तो उनका जवाब यही होता था कि लोग अफवाहें उड़ा रहे हैं, ये सही नहीं है।
PunjabKesari