Sports

राजकोटः वेस्टइंडीज के कोच स्टुअर्ट ला ने मंगलवार को यहां कहा कि भारत को इंग्लैंड में हुई परेशानियों पर वह ज्यादा ध्यान नहीं दे रहे हैं और तेजी से सुधार कर रही उनकी टीम दो टेस्ट मैचों की श्रृंखला में रैंकिंग में शीर्ष पर काबिज टीम को कड़ी चुनौती देगी। ला ने मंगलवार को कहा, ‘‘ हमने काफी बातें कर ली हैं (श्रृंखला से पहले)। हमने श्रीलंका और बांग्लादेश के खिलाफ दो घरेलू श्रृंखलाओं में अच्छा प्रदर्शन किया। हम भारतीय टीम के इंग्लैंड में प्रदर्शन पर ज्यादा ध्यान नहीं दे रहे हैं। मैंने उनके प्रदर्शन को देखा है यह 1-4 के नतीजे से कही ज्यादा करीबी श्रृंखला थी। ’’          

उन्होंने कहा, ‘‘ भारतीय टीम रैंकिंग में शीर्ष पर है, हम आठवें स्थान पर हैं। हम उनके घरेलू मैदान पर खेल रहे हैं, यह काफी बड़ी चुनौती है। यहां आने वाली ज्यादातर टीमें सफल नहीं रही हैं। हम इन तमाम चुनौतियों को समझते हैं लेकिन दूसरी तरफ हमारी टीम में सुधार हो रहा है।’’ ला को उम्मीद है कि उनकी टीम गुरूवार से शुरू हो रहे पहले टेस्ट मैच में अच्छा प्रदर्शन करेगी। उन्होंने कहा, ‘‘ भारत आने से पहले हमने आठ दिन तक दुबई में अभ्यास किया। वहां दिन में तापमान 45 डिग्री तक था, इसलिए हमारे लिए गर्मी ज्यादा बड़ा मुद्दा नहीं है। बड़ौदा में दो दिनों का अभ्यास मैच भी हमारे लिए अच्छा रहा। बड़ौदा में हमें जैसी पिच मिली थी यह पिच भी वैसी ही दिख रही है। हमारी तैयारी अच्छी है।’’    

दुनिया को दिखाना होगा कि हम भी खेल सकते हैं      
PunjabKesari

क्रिकेटर से कोच बने 49 साल के इस ऑस्ट्रेलियाई ने कहा, ‘‘ हमने काफी बातें कर ली लेकिन अब बातें करने का समय नहीं है। अब समय आ गया है कि खिलाडिय़ों को मैदान पर प्रदर्शन करना होगा। भारत का दौरा करना दूसरी टीमों के लिए हमेशा मुश्किल होता है। हमें दुनिया को दिखाना होगा हम भी खेल सकते हैं और मौके का फायदा उठा सकते हैं।’’ टीम के सलामी बल्लेबाजों के बारे में पूछे जाने पर ला ने कहा, ‘‘ शुरूआती तीन और चार नंबर तक बल्लेबाजी करना मुश्किल काम होता है। क्रेग ब्रेथवेट और कीरेन पावेल ने कई बार एक साथ पारी की शुरूआत की है और वे अब तक सफल रहे हैं। हमने अपनी योजना तैयार रखी है और खिलाडिय़ों को उसे मैदान पर दिखाना होगा।’’ तेज गेंदबाजी हमेशा से वेस्टइंडीज का मजबूत पक्ष रहा है लेकिन भारत के खिलाफ इंग्लैंड के मोईन अली की सफलता को देख कर ला को स्पिन गेंदबाजों से भी काफी उम्मीदें हैं।           

उन्होंने कहा, ‘‘ मोईन अली ने इंग्लैंड में भारतीय बल्लेबाजों को काफी परेशान किया। हमारे पास भी स्पिन गेंदबाजी में जो विकल्प हैं उसका इस्तेमाल करना होगा। रोस्टन चेज की लंबाई मोईन अली से थोड़ी ज्यादा है, वे उसी गति से गेंदबाजी करते हैं। देवेन्द्र बिशू और जोमेल वाॢरकन का भी गेंद पर अच्छा नियंत्रण है। तेज गेंदबाजी हमारा मजबूत पक्ष रहा है लेकिन स्पिनर भी अच्छा कर सकते हैं।’’ ला को हालांकि लगता है विराट कोहली की अगुवाई वाली भारतीय बल्लेबाजी को रोकना आसान नहीं होगा। उन्होंने कहा, ‘‘ उन्होंने भारत के अलावा दूसरे देशों में भी शानदार प्रदर्शन किया है। कोहली महान बल्लेबाज है। यह किसी बड़े नाम को गेंदबाजी करने के बारे में नहीं है, यह बल्लेबाजों को गेंदबाजी करने के बारे में है। भारतीय बल्लेबाजी क्रम में सिर्फ वही एक बल्लेबाज नहीं है। भारत के पास विकल्प की कमी नहीं है। उनके बल्लेबाज दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से हैं।’’          


 

.
.
.
.
.