Sports

जेनेवा , स्विट्जरलैंड  ( निकलेश जैन ) पूर्व विश्व चैम्पियन और क्लासिकल शतरंज के सबसे महान खिलाड़ियों में शुमार किए जाने वाले रूस के व्लादिमीर क्रामनिक नें कुछ माह पहले अपने अचानक सन्यास की खबर से सभी को चौंका दिया था 

खैर उन्होने उसी समय यह संकेत दिया था की वह खेल से जुड़े रहेंगे और उन्होने एक कोच के तौर पर खेल को कुछ बड़ा देने का निश्चय किया है । और भारत के लिए बेहद खुशी की खबर यह है की अपने पहले माइक्रोसेन्स शतरंज प्रशिक्षण के लिए उन्होने छह नन्हें भारतीय सितारों को चुना है । 

भारतीय नन्हें खिलाड़ियों के खेल का विश्लेषण करने के बाद क्रामनिक नें उन्हे खुद चुना है । 14 से 25 अगस्त तक वह भारत के युवा ग्रांड मास्टर आर प्रग्गानंधा ( 13 वर्ष ),दुनिया के सबसे कम उम्र के दूसरे ग्रांड मास्टर  डी गुकेश ( 12 वर्ष ) ,इनियान पी (17 वर्ष ),अर्जुन एरगासी ( 15 वर्ष ) ,रौनक साधवानी ( 14 वर्ष ) और लियान मेनदोनसा (12वर्ष ) को चुना है । 

इन सभी खिलाड़ियों के साथ चेसबेस इंडिया के इंटरनेशनल मास्टर सागर शाह और अमृता मोकल भी टीम के साथ जेनेवा जाएँगे । खिलाड़ियों को माइक्रोसेन्स प्रायोजित कर रही है । 

शिविर का उद्देश्य भविष्य के विश्व चैम्पियन तैयार करना है ।

क्रामनिक नें कहा - भारत में इस समय दुनिया के किसी भी देश की तुलना में सबसे प्रतिभाशाली शतरंज खिलाड़ियों की पीढ़ी है और उनमें से कई बड़े खिलाड़ी बनने की क्षमता रखते है और शायद कोई इनमें से विश्व चैम्पियन भी बन जाये , और चूकी अब मैं सन्यास ले चुका है तो ऐसे में इन नन्हें खिलाड़ियों के साथ अपना ज्ञान बांटने में मुझे खुशी होगी ।  

.
.
.
.
.