Sports

बर्लिन : मेसुत ओजिल को विश्व कप के पहले राउंड में जर्मनी के बाहर होने के लिए ‘‘बलि का बकरा’’ बनाने के बाद उनके पिता ने कहा कि इस फुटबालर को जर्मनी की राष्ट्रीय टीम छोड़ देनी चाहिए। रूस में जारी विश्व कप से गत विजेता टीम के बाहर होने के बाद 29 वर्षीय ओजिल की कड़ी आलोचना की गई। जर्मनी निराशाजनक प्रदर्शन करते हुए अपने ग्रुप में सबसे नीचे रहा था।
PunjabKesari
आर्सेनल के मिडफील्डर पर पहले से ही तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन के साथ तस्वीर खिंचाने के बाद दबाव था। तुर्क मूल के खिलाड़ी के जर्मनी के प्रति वफादारी पर सवाल उठ रहे थे। गत वीरवार को जर्मनी के कोच ओलिवर बियरहॉफ ने नया हंगामा शुरू कर दिया जब उन्होंने कहा कि एर्दोआन के साथ मुलाकात को लेकर स्थिति साफ ना करने के लिए ओजिल को टीम से हटा दिया जाना चाहिए था। हालांकि कोच ने बाद में अपने बयान के लिए माफी मांग ली।
PunjabKesari
इस मिडफील्डर के पिता मुस्तफा ओजिल ने एक जर्मन अखबार से कहा कि यह बयान अपमानजनक है। मेरा मानना है कि इसका मकसद अपनी गर्दन बचाना है। उन्होंने कहा कि ओजिल ने जर्मनी के लिए बहुत कुछ दिया है, जब आप जीतते हैं तो साथ में जीतते हैं। मुस्तफा ने कहा- लेकिन जब आप हारते हैं, तो हम ओजिल के कारण हारते हैं। उसे बलि का बकरा बनाया जा रहा है। यह बहुत गलत है। उसे अपने लिए खुद फैसला लेना है। लेकिन मैं उसकी जगह होता तो टीम छोड़ देता। लेकिन यह मेरी व्यक्तिगत सोच है।

.
.
.
.
.