Sports

नयी दिल्ली : ओलंपिक भाला फेंक चैंपियन नीरज चोपड़ा को स्टॉकहोम में 30 जून को प्रतिष्ठित डायमंड लीग मीट में कड़ी चुनौती का सामना करना होगा। इस टूर्नामेंट से उन्हें अगले महीने अमेरिका के यूजीन में होने वाली विश्व चैंपियनशिप की तैयारियों के बारे में भी पता चलेगा।

तोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले 24 साल के नीरज ने इस सत्र में अच्छी शुरुआत की है। फिनलैंड में कुओर्टेन खेलों में 18 जून को सत्र की अपनी पहली जीत हासिल करने के बाद वह आत्मविश्वास के साथ स्वीडन की राजधानी पहुंचेंगे। इस महीने उन्होंने ग्रेनाडा के विश्व चैंपियन एंडरसन पीटर्स को दो बार हराया है।

Neeraj Chopra, tough challenge, 1st Diamond League meet, नीरज चोपड़ा, पहली डायमंड लीग मीट, sports news

इस भारतीय सुपरस्टार ने 14 जून को फिनलैंड के तुर्कू में पावो नूरमी खेलों में 89.30 मीटर के राष्ट्रीय रिकॉर्ड थ्रो के साथ सत्र की अपनी पहली प्रतियोगिता में रजत पदक जीता था। नीरज इसके बाद कुओर्टेन खेलों में अपने तीसरे प्रयास के दौरान बुरी तरह गिर गए थे, लेकिन उन्हें कोई चोट नहीं लगी। भाला फेंक के लिए वहां हालात खतरनाक थे क्योंकि बारिश के कारण रन-अप पर फिसलन थी। उनका 86.64 मीटर का पहले दौर का थ्रो हालांकि उन्हें स्वर्ण दिलाने के लिए काफी था।

स्टॉकहोम में प्रतिभागियों की सूची में पीटर्स का भी नाम है लेकिन दोहा डायमंड लीग में 93.07 मीटर के शानदार प्रयास के साथ सत्र का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाला यह खिलाड़ी लय में नहीं हैं । उन्होंने बुधवार को फिनलैंड के ओरिमत्तिला में एक स्पर्धा में अपने सभी थ्रो पूरे नहीं किए। यहां उनका सर्वश्रेष्ठ प्रयास महज 71.94 मीटर का था। उन्होंने पावो नूरमी खेलों में 86.60 मीटर और कुओर्टाने खेलों में 84.75 मीटर फेंका और दोनों जगह तीसरे स्थान पर रहे।

.
.
.
.
.