Sports

स्पोटर्स डेस्क: भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच के तौर पर रमेश पवार का पिछले साल कार्यकाल खत्म होने के बाद नए कोच के तौर पर डब्ल्यू.वी.रमन को चुना गया। रमन को नया कोच तो चुन लिया गया, लेकिन अभी तक उनकी बतौर कोच नियुक्ति नहीं हुई है। उनकी नियुक्ति पर अब पेंच फंस चुका है और ये पेंच किसी और ने नहीं बल्कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से बनाई गई प्रशासकों की समिति (CoA) की सदस्य डायना एडुल्जी ने फंसाया है। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों किया?

कॉन्ट्रैक्ट फाइल पर डायना ने हस्ताक्षर से किया इनकार

Diana Edulji

बता दें कि भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच के तौर पर रमन के साथ सालाना 1.75 करोड़ रुपए का करार किया गया है और इस करार की फाइल को मंजूरी के लिए जब बोर्ड के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर ने CoA के पास भेजा, तो विनोद राय ने तो इस फाइल को मंजूरी दे दी, लेकिन डायना एडुल्जी ने इस पर अपना ऐतराज दर्ज करवाते हुए हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया। उन्होंने विनोद राय को एक ई-मेल भेजकर डब्ल्यू.वी.रमन की नियुक्ति को चुनौती दे डाली।

डायना ने पूछा- नए कोच के चयन के लिए क्यों नहीं बढ़ाई गई डेडलाइन?

Diana Edulji

सूत्रों के मुताबित अपनी ई-मेल में डायना एडुल्जी ने ये सवाल पूछा है कि जिस तरह रवि शास्त्री को भारतीय पुरुष टीम का कोच बनाने के लिए डेडलाइन को बढ़ाया गया था, उसी तरह भारतीय महिला टीम के नए कोच के चयन के लिए डेडलाइन क्यों नहीं बढ़ाई गई? अगर डेडलाइन को बढ़ाया जाता तो सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण की क्रिकेट एडवाजरी कमेटी इंटरव्यू लेने के लिए उपलब्ध हो सकती थी, लेकिन ऐसा नहीं किया गया।

वी.रमन को लेकर डायना ने दे डाला ये सुझाव

WV Raman And Diana Edulji

CoA की मेंबर डायना एडुल्जी ने भारतीय महिला क्रिकेट टीम के आगामी न्यूजीलैंड दौरे के लिए डब्ल्यू.वी.रमन को बतौर अंतरिम कोच टीम के साथ भेजने का सुझाव दिया है। उन्होंने अपने सुझाव की कॉपी बोर्ड के अधिकारियों के साथ-साथ सुप्रीम कोर्ट की ओर से इस मसले पर नियुक्त किए गए कोर्ट मित्र गोपाल सुब्रामण्यम को भी भेजा है। इसके साथ ही डायना ने ये भी लिखा कि कैसे अनिल कुंबले के इस्तीफा देने के बाद टीम इंडिया वेस्टइंडीज दौरे पर बिना कोच के गई थी। ऐसे में बिना किसी कोच के बजाय रमन को बतौर अंतरिम कोच न्यूजीलैंड दौरे पर भारतीय महिला क्रिकेट टीम के साथ भेजा जाए।

.
.
.
.
.