Sports

नई दिल्लीः अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद( आईसीसी ) ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड( पीसीबी ) के भारतीय क्रिकेट बोर्ड( बीसीसीआई ) के खिलाफ समझौता पत्र( एमओयू ) का सम्मान नहीं करने के लिए छह करोड़ डाॅलर के मुआवजे के दावे के निबटान के लिए तीन सदस्यीय समिति गठित की है।      

इस समझौते के तहत भारत को पाकिस्तान के खिलाफ 2015 से 2023 के बीच आठ साल में पांच द्विपक्षीय श्रृंखलाएं खेलनी थी। इस मामले की सुनवाई दुबई में आईसीसी मुख्यालय में एक से तीन अक्तूबर के बीच होगी। पीसीबी ने आईसीसी की विवाद निबटान समिति में अपील की थी। उसने बीसीसीआई पर भविष्य के दौरा कार्यक्रम ( एफटीपी ) का सम्मान नहीं करने का आरोप लगाया था जिसके अंतर्गत भारतीय टीम को पाकिस्तान के खिलाफ यूएई जैसे तटस्थ स्थल पर दो श्रृंखलाएं भी खेलनी थी।

पैनल के फैसले के खिलाफ नहीं होगी अपील
आईसीसी ने विज्ञप्ति में कहा, ‘‘ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने आज पुष्टि की कि माननीय माइकल बेलोफ क्यूसी पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड और भारतीय क्रिकेट बोर्ड के मामले में विवाद निवारण पैनल की अध्यक्षता करेंगे। ’’ इसमें कहा गया है, ‘‘ समिति के दो अन्य सदस्य जान पॉलसन और डा. अनाबेल बेनेट एओ, एसी होंगे। ’’ विश्व संस्था ने यह भी स्पष्ट किया कि पैनल के फैसले के खिलाफ अपील नहीं की जा सकती है।      

.
.
.
.
.