IPL 2019
Sports

नई दिल्ली : आस्ट्रेलिया की 1992 के बार्सिलोना ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाली टीम के सदस्य रहे ग्राहम रीड को हॉकी इंडिया ने भारतीय राष्ट्रीय टीम का नया मुय कोच नियुक्त किया है। हॉकी इंडिया ने सोमवार को जारी बयान में यह घोषणा की। 54 वर्षीय रीड बेंगलुरू में भारतीय खेल प्राधिकरण के सेंटर में चल रहे राष्ट्रीय शिविर से जल्द ही जुड़ जाएंगे। वह इस साल ओड़शिा के भुवनेश्वर में होने वाले एफआईएच पुरूष सीरीका फाइनल के लिये भारतीय टीम की तैयारियों का प्रभार संभालेंगे। 

रीड आस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय टीम में डिफेंडर और मिडफील्डर की हैसियत से अपने करियर में खेले थे। वह बार्सिलोना ओलंपिक की रजत पदक विजेता टीम के सदस्य होने के साथ साथ 1984 और 1985 तथा 1989 और 1990 में चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जीतने वाली टीम का भी हिस्सा थे। 130 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले रीड ने राष्ट्रीय टीम के साथ कोङ्क्षचग की शुरूआत 2009 में की थी जब उन्हें आस्ट्रेलियाई टीम का सहायक कोच बनाया गया था। उन्हें अपने कार्यकाल के दौरान ही प्रमुख कोच बनाया गया था और उन्होंने 2012 में आस्ट्रेलिया को लगातार पांचवीं बार चैंपियंस ट्रॉफी खिताब दिलाया था। वह 2014 में प्रमुख कोच बने और उन्होंने आस्ट्रेलिया को नंबर एक टीम भी बनाया। वह 2017 में हॉलैंड के एक प्रमुख क्लब के भी कोच बने थे।

रीड को कोच नियुक्त करते हुये हॉकी इंडिया के अध्यक्ष मोहम्मद मुश्ताक अहमद ने कहा, ‘रीड का खिलाड़ी के रूप में सफल कैरियर रहा है और उनके पास कोचिंग का बड़ा अनुभव भी है। वह आस्ट्रेलिया और हॉलैंड की राष्ट्रीय टीमों के साथ भी काम कर चुके हैं। हमें उम्मीद है कि उनके अनुभव से भारतीय टीम को 2020 के टोक्यो ओलंपिक के लिये तैयारियों में फायदा मिलेगा।’ रीड ने भी भारत का कोच नियुक्त किए जाने को एक बड़ा सम्मान बताते हुए कहा, ‘भारतीय पुरूष हॉकी टीम का कोच बनना मेरे लिये बड़े सम्मान और गौरव की बात है। इस खेल में किसी अन्य देश का इतना समृद्ध इतिहास नहीं है जितना भारत का है। विपक्षी कोच रहते हुये मैने उनके खेल का आनंद लिया था और अब मेरी जिम्मेदारी है कि मैं इस टीम को अपनी कोचिंग से नई ऊंचाइयों पर ले जाऊं।’ आस्ट्रेलियाई रीड की पत्नी अगस्त में भारत आ जाएंगी और वे बेंगलुरू को अपना दूसरा घर बनाएंगे। रीड को हरेंद्र सिंह की जगह भारतीय टीम का कोच बनाया गया है जिनका कार्यकाल गत वर्ष एशियाई खेलों के बाद समाप्त हो गया था। 

.
.
.
.
.