Sports

कोच्चि: यूरोपियन पॉवरहाउस स्पेन ने आखिर अपना पराक्रम दिखाते हुए एशियाई शक्ति ईरान को रविवार को 3-1 से हराकर फीफा अंडर 17 विश्व कप फुटबॉल टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया जहां उसका मुकाबला गत उपविजेता और अफ्रीकी चैंपियन माली से बुधवार को होगा। स्पेन की जीत में एबेल रुईज ने 13वें, सर्जियो गोमेज ने 60वें और फेरन तोरेस ने 67वें मिनट में गोल किये। ईरान का एकमात्र गोल सैयद करीमी ने 69वें मिनट में किया। ईरान ने जिस तरह ग्रुप मैचों और राउंड 16 में शानदार प्रदर्शन किया था उससे यह उम्मीद थी कि वह पिछले 22 साल में विश्वकप के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली एशियाई टीम बनेगा। 

स्पेन ने 3-0 की बढ़त बनाने के बाद ईरान का यह सपना तोड़ दिया। विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में पहुंची आठ टीमों में ईरान ही एकमात्र एशियाई टीम थी और उसकी हार के साथ टूर्नामेंट में एशिया की चुनौती समाप्त हो गई। विश्व कप में अब तक सिर्फ चार एशियाई टीमें ही सेमीफाइनल तक पहुंची थी। सऊदी अरब और बहरीन ने 1989 के विश्व कप में, कतर ने 1991 के विश्व कप में और ओमान ने 1995 के विश्व कप के सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। ईरान ने ग्रुप चरण में गुएना को 3-1 से, मजबूत जर्मनी को 4-0 से और कोस्टा रिका को 3-0 से और राउंड 16 में पूर्व चैंपियन मेक्सिको को 2-1 से पस्त किया था। लेकिन वह इस कारनामे को क्वार्टर फाइनल में स्पेन के सामने नहीं दोहरा सका। यूरोपिन चैंपियन स्पेन की टीम ने मैच में शुरुआत से ही दबदबा बनाया और 13वें मिनट में बढ़त बना ली। स्पेन के कप्तान रुईज ने रिबाउंड पर मिली गेंद पर ईरान के गोलकीपर अली गुलाम जादेह को छका दिया। स्पेन पहले हाफ में एक गोल से आगे रहा। स्पेन ने दूसरे हाफ में सात मिनट के अंतराल में दो गोल दागकर ईरान को पूरी तरह ध्वस्त कर दिया।

सर्जियो गोमेज ने तोरेस के पास पर लाजवाब गोल किया। उनके बाएं पैर के जबर्दस्त शॉट को जादेह को परास्त कर दिया। तोरेस ने मोहमद मोकलिस के नीचे क्रास पर स्पेन का तीसरा गोल दागने में कोई गलती नहीं की। करीमी ने हालांकि दो मिनट बाद ही ईरान के लिए गोल कर दिया। लेकिन उसके लिए स्पेन की बराबरी तक पहुंचना बहुत मुश्किल काम था। स्पेन अब बुधवार को नवी मुंबई में माली से सेमीफाइनल में भिड़ेगा। स्पेन की टीम आठ साल के बाद सेमीफाइनल में पहुंची है। स्पेन का यह छठा सेमीफाइनल है। उसने 2009 में तीसरा स्थान हासिल किया था। स्पेन तीन बार फाइनल में पहुंचकर उपविजेता रहा है और उसे पहले खिताब की तलाश है।