Football

फातोरदा: पहली बार सेमीफाइनल की तलाश में लगे इंग्लैंड और एक बार सेमीफाइनल खेल चुके अमेरिका के बीच शनिवार को यहां जवाहरलाल नेहरु स्टेडियम में होने वाले फीफा अंडर 17 विश्वकप के दूसरे क्वार्टरफाइनल में जोरदार मुकाबला होगा। इंग्लैंड ने अब तक टूर्नामेंट में लगातार शानदार प्रदर्शन किया है। हालांकि प्री क्वार्टरफाइनल में उसे एशियाई टीम जापान से कड़ी चुनौती मिली थी। दूसरी तरफ अमेरिका का राउंड 16 में तूफानी प्रदर्शन रहा था और उसने पैराग्वे को 5-0 से रौंदा था।

अमेरिका ने ग्रुप मैचों में भारत को 3-0 और घाना को 1-0 से हराया था। लेकिन तीसरे मैच में कोलंबिया ने उसे 3-1 से चौंका दिया। अमेरिका की टीम ने तीसरे स्थान की चार सर्वश्रेष्ठ टीमों में जगह बनाकर राउंड 16 के लिए क्वालिफाई किया था जहां उसने एकतरफा अंदाज में पैराग्वे को 5-0 से पीट दिया। इंग्लैंड ने ग्रुप मैचों में चिली को 4-0 से, मेक्सिको को 3-2 से और इराक को 4-0 से पीटा था। जापान के साथ उसका राउंड 16 मैच निर्धारित समय तक गोलरहित बराबर रहा जिसके बाद इंग्लैंड ने पेनल्टी शूटआउट में 5-3 से जीत हासिल की। इंग्लैंड के लिए जेडन सांचो ने तीन गोल किए हैं जबकि अमेरिका के लिए टिमोथी वीह ने भी तीन गोल किए हैं।

अमेरिका के एंड्रयू कार्लटन और जोश सार्जेंट ने दो-दो गोल किये हैं। वीह ने पैराग्वे के खिलाफ शानदार हैट्रिक जमाई थी जबकि कार्लटन और सार्जेंट ने एक-एक गोल किया था।  इग्लैंड को अपने गोलकीपर कर्टिस एंडरसन से जापान जैसे एक और चमत्कार की उम्मीद होगी। एंडरसन ने जापान के खिलाफ शूटआउट में एक पेनल्टी बचाई थी और एक गोल भी दागा था। इंग्लैंड अंडर 17 फुटबॉल विश्वकप के इतिहास में अब तक एक बार भी सेमीफाइनल में नहीं पहुंच पाया है जबकि अमेरिका ने 1999 में सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। अमेरिका को जहां 18 साल बाद पहले सेमीफाइनल की तलाश है तो वहीं इंग्लैंड भी इस बार मौका नहीं चूकना चाहेगा।