Sports

जालन्धर : आईपीएल-12 के फाइनल मुकाबले में जब मुंबई इंडियंस जीतने में सफल हो गया तो इधर, डगआऊट में बैठे हरभजन ने गुस्से में अपना बैट पटक दिया था। दरअसल चेन्नई के सलामी बल्लेबाज शेन वाटसन जब आऊट हुए तो हरभजन की जगह शार्दुल ठाकुर को क्रीज पर भेज दिया गया। शार्दुल आखिरी ओवर का प्रैशर नहीं झेल पाए और आखिरी गेंद पर जब टीम को दो रन की जरूरत थी तब वह पगबाधा आऊट हो गए। शार्दुल जैसे ही आऊट हुए डग आउट में बैठे हरभजन सिंह का गुस्सा देखने लायक था।

मैच के बाद हरभजन ने जो बयान दिया उसमें चेन्नई के कोचिंग स्टाफ का बड़ा विरोध नजर आया। उन्होंने साफ कहा- प्लान ऐसा ही था कि मैं जाऊंगा लेकिन उस समय कोच ने ठीक समझा कि भागने की जरूरत है और शायद शार्दुल मुझसे तेज भाग सकता है। हालांकि मुझे मौका मिलता तो मैं टीम के लिए पूरी कोशिश करता। भारत और मुंबई इंडियंस के लिए कई ऐसी मैच आए हैं जब मैंने ऐसी परिस्थति में बल्लेबाजी की है। 

हरभजन के बयान में कहीं न कहीं कप्तान धोनी का विरोध भी नजर आया। उन्होंने कहा कि अगर वह कप्तान होते तो शार्दुल को क्रीज पर लंबे हिट मारने के लिए कहते ना कि एक या दो रन लेने की। शार्दुल अच्छे खिलाड़ी है। वह गेंदबाजी अच्छी करते हैं। लेकिन उस मौके पर एक या दो रन की नहीं बल्कि बड़ी हिट लगाने की जरूरत थी। हिट मारने पर एक रन तो मिल ही जाता और गेंद इधर- उधर जाती तो दो रन भी हो सकते थे।

.
.
.
.
.