International

लंदनः पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की पूर्व पत्नी रेहम खान ने पाक के अंदरूनी हालात की पोल खोलते हुए कहा कि  वहां लोकतंत्र नाम की कोई चीज नहीं है और देश को सेना चला रही है। उन्होंने कहा, 'यह किस तरह का लोकतंत्र है, जिसमें बिना लोगों से पूछे, बिना उनका सुझाव लिए, बिना संसद को विश्वास में लिए फैसले किए जा रहे हैं।   मेरा मानना है कि उन्हें यह स्वीकार करना चाहिए कि पाकिस्तान में खुल्लम-खुल्ला सैनिक शासन है।' 
PunjabKesari
एक अंतरराष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान की गरीबी पर चर्चा के दौरान अपने पूर्व पति की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा, 'मौजूदा समय में पाकिस्तान बेहद दुर्भाग्यपूर्ण दौर से गुजर रहा है। प्रधानमंत्री सऊदी अरब जाते हैं और खुलकर पाकिस्तान की गरीबी के बारे में चर्चा करते हैं और कहते हैं कि उनके देश के पास पैसे नहीं हैं।' मेरा मानना है कि कोई भी व्यक्ति चाहे वह कारोबार करता हो या निवेशक हो, वह एक अंतरराष्ट्रीय मंच पर अपने देश या उपक्रम का अपमान नहीं करेगा।
PunjabKesari
रेहम ने इस मुद्दे पर संसद में चर्चा की मांग की। पत्रकार ने कहा कि जिस तरह भीख के जरिए हमें फंड मिले हैं और जिन शर्तों पर मिले हैं, उसके बारे में संसद में अवश्य चर्चा होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर नवाज शरीफ ने ऐसा किया होता और संसद में इस पर चर्चा न की होती, तो हालात कुछ और होते। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने बीते बुधवार को एक सार्वजनिक संबोधन में नकदी की किल्लत से जूझ रहे पाकिस्तान को वित्तीय मदद मुहैया कराने के लिए सऊदी अरब का शुक्रिया अदा किया था।

PunjabKesari

.
.
.
.
.