Sports

मीरपुर: लगातार जीत के पथ पर सवार और आत्मविश्वास से लबरेज टीम इंडिया जब शुक्रवार को मेजबान बांग्लादेश के खिलाफ ग्रुप-2 में अपने तीसरे मुकाबले के लिए उतरेगी तो उसका एकमात्र लक्ष्य सैमीफाइनल में अपनी जगह सुनिश्चित करना होगा। पाकिस्तान और फिर वेस्टइंडीज को हराने के बाद कुछ दिन आराम और अभ्यास के बाद मैदान पर लौट रही भारतीय टीम इस समय अपने ग्रुप-2 में सर्वाधिक 4 अंकों के साथ शीर्ष पर है जबकि उसका मुकाबला मेजबान बांग्लादेश से होने जा रहा है जो बिना किसी अंक के सबसे निचले स्थान पर है।

टीम इंडिया जीत सकती है टी20 व‌र्ल्ड कप

मजबूत स्थिति वाली भारतीय टीम इस समय मनोवैज्ञानिक रूप से पूरी तरह से तैयार है और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व में उसने अभी तक टूर्नामैंट में कमाल का प्रदर्शन दिखाया है। उम्मीद है कि टीम इंडिया को बांग्लादेश के सामने भी अपने इस विजयी अभियान को आगे बढ़ाने में कोई दिक्कत महसूस नहीं होगी। बल्लेबाजी, गेंदबाजी और साथ ही क्षेत्ररक्षण, इन तीनों विभागों में टीम ने व्यापक सुधार किया है और एशिया कप में इसी मैदान पर फिसड्डी साबित हुई भारतीय टीम अब टूर्नामैंट की सबसे मजबूत टीम बन चुकी है।

शुक्रवार को मुकाबले में एक बार फिर टीम से उसी तरह के कमाल के प्रदर्शन की उम्मीद की जाएगी जो उसने पिछले विभागों में दोहराया था। हालांकि टीम के स्टार खिलाड़ी और आलराऊंडर युवराज सिंह अभी भी चिंता का विषय बने हुए हैं और युवी के लिए बांग्लादेश के सामने खुद को साबित करने की बड़ी चुनौती होगी। मैच से पहले अभ्यास में युवी ने काफी आक्रामकता के साथ प्रदर्शन किया और जाहिर है कि टीम के अनुभवी खिलाड़ी युवराज भी यह जानते हैं कि उनके लिए खुद को साबित करना इस समय कितना जरूरी है।

युवराज के अलावा मैच में एक बार फिर स्पिनरों पर सभी की निगाहें होंगी। पिछले 2 मैचों में अपनी खतरनाक गेंदबाजी से विपक्षी टीम को धूल चटाकर लगातार ‘मैन ऑफ द मैच’ का खिताब जीतने वाले लैग स्पिनर अमित मिश्रा बंगलादेश के खिलाफ भी आकर्षण का केंद्र रहेंगे। बांग्लादेश की सपाट और स्पिन के लिए मददगार पिचों पर मिश्रा ने खुद को न सिर्फ साबित किया है बल्कि टीम को जीत भी दिलाई है।

मिश्रा भले ही एक समय धोनी के ‘फेवरेट’ न रहे हों लेकिन उन्होंने टीम में अपनी मौजूदगी और स्थान दोनों को सार्थक बनाया है। इसके अलावा ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और ऑलराऊंडर रवींद्र जडेजा भी भारतीय स्पिन गेंदबाजी की ताकत हैं। जडेजा ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पिछले मैच में 3 विकेट चटकाए तो अश्विन ने 1 विकेट निकाला। इसके अलावा तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार ने भी गेंदबाजी आक्रमण को मजबूती दी है।