Sports

मुंबई: महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने आईसीसी को सुझाव दिया है कि अगर पारंपरिक प्रारूप को बचाए रखना है, तो उसे ज्यादा से ज्यादा टेस्ट मैच आयोजित करने चाहिए। उन्होंने साथ ही ट्वेंटी 20 को श्रेय देते हुए कहा कि पांच दिवसीय मैच इसकी वजह से ही इन दिनों परिणाम देने वाले हो गए हैं।

मुझे आज भी गुरु आचरेकर के दिए सिक्के याद हैं: सचिन

तेंदुलकर को शुक्रवार को 'पीढ़ी का क्रिकेटर' चुना गया था, उन्होंने पुरस्कार कार्यक्रम में ईएसपीएनक्रिकइंफो से कहा, आईसीसी को इसका ध्यान रखना चाहिए और अगर वे चाहते हैं कि टेस्ट क्रिकेट बना रहे, तो उन्हें ज्यादा से ज्यादा टेस्ट मैच आयोजित करने चाहिए। मैं अब भी मानता हूं कि टेस्ट क्रिकेट सही हाथों में है, खिलाड़ी अविश्वसनीय क्रिकेट खेल रहे हैं।

 

उन्होंने कहा, अगर आप पूरी दुनिया में देखें, तो ज्यादातर टेस्ट मैच में परिणाम मिल रहे हैं और बहुत कम ही टेस्ट मैच ऐसे होते हैं, जो अब ड्रॉ हो रहे हैं और यह टी 20 के शुरू होने से ही हुआ है। यह एक-दूसरे के पूरक हो रहे हैं।

तेंदुलकर ने कहा कि क्रिकेट शुरू करने वाले खिलाड़ियों के लिए टी 20 आदर्श प्रारूप है, लेकिन साथ ही उन्होंने कहा कि उन पर टेस्ट क्रिकेट थोपना नहीं चाहिए। उन्होंने कहा, अगर आप चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा लेग क्रिकेट खेलें, तो इसके लिए टी-20 आदर्श प्रारूप है। इसके बाद धीरे-धीरे उन्हें वनडे क्रिकेट और टेस्ट क्रिकेट की ओर बढ़ना चाहिए।