Sports

नई दिल्ली: देश में आम चुनावों के मद्देनजर गृह मंत्रालय के आईपीएल सात के दौरान सुरक्षा मुहैया कराने से इंकार के बाद एक बार फिर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मैच देश से बाहर कराया जाना तय माना जा रहा है। गृह मंत्रालय ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को भी इस बात की जानकारी दे दी है कि संभवत अप्रैल से मई माह में आम चुनाव कराए जा सकते हैं जिससे वह आईपीएल के दौरान सुरक्षा मुहैया नहीं करा सकता है। इससे पहले बीसीसीआई के दो वरिष्ठ अधिकारियों संजय पटेल और उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला ने गुरुवार को गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे से मिलकर आईपीएल की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर बातचीत की थी।

गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने भी आईपीएल के सातवें संस्करण में सुरक्षा मुहैया कराने से इंकार कर दिया था। शिंदे ने कहा ‘आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए सरकार आईपीएल मैचों के दौरान सुरक्षा मुहैया नहीं करा सकती है।’ इस बीच गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने कहा ‘आम चुनावों के मद्देनजर सरकार उस तरह की सुरक्षा व्यवस्था मुहैया नहीं करा सकती है जिसकी आईपीएल के दौरान जरुरत होती है। ऐसे में उन्हें चुनावों के दौरान किसी वैकल्पिक स्थान का चयन करना होगा।’

आईपीएल चेयरमैन रंजीब बिस्वाल ने बताया कि मंत्रालय ने बीसीसीआई से कहा है कि चुनावी प्रक्रिया पूरी होने के बाद आईपीएल के मैच वापिस भारत में कराए जा सकते हैं। चुनाव आयोग ने फिलहाल आम चुनावों की तारीख तय नहीं की है लेकिन इसके बावजूद बीसीसीआई इसके लिए इंतजार करना चाहता है। बोर्ड सचिव पटेल ने कहा ‘बीसीसीआई चुनावों का अंतिम कार्यक्रम तय होने तक इंतजार करने के लिए तैयार है। दरअसल हम ज्यादा से ज्यादा मैच भारत में ही कराना चाहते हैं क्योंकि यह हमारा घरेलू टूर्नामेंट है। ऐसे में जब चुनावों की तारीख तय हो जाएगी तो उसके बाद ही हम टूर्नामेंट का फाइनल कार्यक्रम तय करेंगे।’