Cricket

नई दिल्ली: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2013 में फिक्सिंग और भ्रष्टाचार के आरोपों के कारण टूर्नामेंट के दामन पर लगे दाग को धोन का काम दिग्गज क्रिकेटरों मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और सौरभ गांगुली को सौंपा गया है। मार्च से अप्रैल में शुरू होने जा रहे आईपीएल के सातवें संस्करण से पूर्व भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने आईपीएल में फिर से लोगों की रूचि बढाने के लिए ‘क्लीन आईपीएल’ अभियान शुरू करने का फैसला किया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार लीग से पूर्व दिग्गज क्रिकेटर सचिन और सौरभ आईपीएल की छवि बेहतर बनाने के लिए काम करेंगे। बीसीसीआई सूत्रों के अनुसार ‘देशभर में आईपीएल को और लोकप्रिय बनाने के लिए विभिन्न भाषाओं में संदेश जारी किए जाएंगे तथा देश के कई दिग्गज क्रिकेटरों को इस अभियान से जोड़ा जाएगा। इसके लिए अलग क्षेत्रों से आने वाले और क्रिकेटर अपनी भाषा में आईपीएल के लिए संदेश देते दिखाई देंगे।’

रिपोर्ट के अनुसार सचिन मराठी भाषा में तो गांगुली बंगाली में आईपीएल के लिए संदेश जारी करेंगे। उन्होंने कहा ‘यदि टूर्नामेंट को दक्षिण अफ्रीका स्थानांतरित किया जाता है तो वहां रह रहे प्रशंसकों को आईपीएल की सच्चाई और विश्वसनीयता के बारे में बताना जरूरी हो जाएगा और इसके लिए भारतीय क्रिकेटरों से अच्छा और कौन हो सकता है।’ आईपीएल छह में स्पॉट फिक्सिंग के कारण राजस्थान रॉयल्स के तीन खिलाडिय़ों एस श्रीसंत, अजीत चंदीला और अंकित चव्हाण को जेल जाना पड़ा था जबकि फ्रेंचाइजियों के मालिकों को भी सट्टेबाजी के आरोपों का सामना करना पड़ा था।