Sports

नई दिल्ली: भारतीय फुटबॉल समुदाय ने भारत को फीफा अंडर 17 विश्व कप 2017 की मेजबानी सौंपे जाने को ऐतिहासिक फैसला करार दिया और कहा कि इससे देश में इस खेल का चेहरा बदल सकता है। एआईएफएफ अध्यक्ष प्रफुल्ल पटेल ने इस घटना को ऐतिहासिक बताया। उन्होंने कहा, ‘‘यह ऐतिहासिक है। हम इसका इंतजार कर रहे थे। मैं फीफा कार्यकारी समिति का आभार व्यक्त करता हूं कि उसने हम पर भरोसा दिखाया और भारत को अंडर 17 विश्व कप 2017 की मेजबानी सौंपी। इस तरह से टूर्नामेंट के आयोजन से भारतीय फुटबाल का चेहरा बदलने में मदद मिलेगी।’’

अपने जमाने के दिग्गज फुटबालर चुन्नी गोस्वामी ने कहा, ‘‘यह निश्चित तौर पर भारतीय फुटबॉल के विकास में बड़ा कदम है। अब सभी संबंधित पक्षों को इसे सफल बनाने के लिये काम करना होगा। हमारे युवा खिलाडिय़ों के लिए दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाडिय़ों के साथ खेलना अनुभव मिलेगा। हमारे पास प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं लेकिन उन्हें चमकने का मौका नहीं मिलता है। विश्व कप से चीजें बदलेंगी।’’

पूर्व कप्तान आई एम विजयन ने कहा, ‘‘यह टूर्नामेंट भारतीय फुटबॉल का चेहरा बदल सकता है। हम इसका सफल आयोजन करने में सक्षम हैं। उम्मीद है कि यह भारतीय फुटबॉल में बदलाव की शुरुआत होगी।’’ भारतीय टीम के गोलकीपर सुब्रत पाल ने कहा, ‘‘यह भारतीय फुटबॉल की सबसे बड़ी घटना है। हमने इससे पहले कभी नहीं सोचा था कि भारत विश्व कप की मेजबानी करेगा। यह हमारे लिए सपना सच होने जैसा है।’’