Sports

नई दिल्ली: सचिन तेंदुलकर के भावुक भाषण से अवाक रहने वाले लाखों भारतीयों में से एक पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि जहां तक अंतर्राष्ट्रीय खेल हस्तियों की बात है तो हाल में सन्यास लेने वाले इस स्टार क्रिकेटर की तुलना केवल महान फुटबॉलर डियगो माराडोना से की जा सकती है। गांगुली ने कहा, ‘‘डियगो माराडोना, वह मेरे पसंदीदा थे और सचिन भी हैं। और दोनों जीनियस हैं।’’

तेंदुलकर ने कल अपना 200वां टेस्ट मैच खेलने के बाद अपने 24 साल के चमकदार करियर का अंत किया। तेंदुलकर की यह विदाई यादगार रही क्योंकि उन्होंने भावनात्मक क्षणों से पहले 74 रन की शानदार पारी खेली। विदाई भाषण देते समय उनकी आंखें भी डबडबा गई थी। इससे करोड़ों लोगों की आंखें भी नम हो गई। गांगुली ने कहा, ‘‘लोग कहते हैं कि वह सही समय पर बात नहीं करते। उन्होंने अपने भाषण से प्रत्येक को अवाक कर दिया।’’ उन्होंने कहा कि तेंदुलकर के बिना क्रिकेट वैसे ही होगा जैसे हेलमेट के बिना सलामी बल्लेबाज। गांगुली ने कहा कि उनकी आखिरी पारी पिछले तीन वर्षों में उनकी सर्वश्रेष्ठ पारी थी। ‘‘मैंने पिछले तीन वर्षों में सचिन को इतनी अच्छी बल्लेबाजी करते हुए नहीं देखा।’’