Sports

मुंबई: मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की पत्नी ही थी, जिन्होंने सचिन को उनके लंबे कैरियर के दौरान उन्हें घर की हर चिंता से दूर रखा। शायद इसी वजह से विदाई की बेला पर सचिन ने अपनी पत्नी को उनकी सफलता का बहुत बड़ा स्तंभ बताया। सचिन ने अपने विदाई समय में कहा था, 'अंजलि से मिलना मेरे जीवन का सबसे खूबसूरत दिन था। अंजलि ने मुझसे कहा आप क्रिकेट खेलने पर ध्यान लगाइए और मैं घर का ध्यान रखती हूं।'

लेकिन अब पत्नी अंजलि को इस बात की चिंता है कि इतने साल तक क्रिकेट के लिए जीने के बाद सचिन इसके बिना कैसे रहेंगे। अंजलि की चिंता यह है कि वह क्रिकेट को इस कदर जीते हैं कि इसके बिना उनकी कल्पना करना मुश्किल है। सच्चाई यह है कि सचिन के बिना क्रिकेट की कल्पना तो की जा सकती है, लेकिन क्रिकेट कि बिना सचिन के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता है।