Cricket

जयपुर: आस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे में बड़े लक्ष्य को आसानी से हासिल करने से बेहद प्रसन्न नजर आ रहे भारतीय कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने कहा कि बल्लेबाजी का यह नजारा अद्भुत था जो बहुत कम देखने में आता था।

धोनी ने नौ विकट से मिली ऐतिहासिक जीत के बाद कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह सर्वश्रेष्ठ है। आप जैसी भी फील्ड लगाएं यह मुश्किल लक्ष्य था। लेकिन रोहित ने बड़ी पारी खेली, शिखर लाजवाब थे और कोहली तो अद्भुत थे।’’

भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘यह एक आदर्श पिच थी, तेज आउटफील्ड था लेकिन आपको एक बल्लेबाज के तौर पर सजग रहने और तेज खेलने की जरुरत थी। हमने यही किया। हमारी बल्लेबाजी अच्छी है लेकिन हर बार 300 से ऊपर के लक्ष्य का सफल पीछा करने की उम्मीद लगाना कुछ ज्यादा होगा।’’

धोनी ने कहा, ‘‘हमारे अधिकतर खिलाडी अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट खेले हैं लेकिन सभी के पास युवराज सिंह जैसा अनुभव नहीं है जो 250 से ज्यादा मैच खेल चुके है।’’

धोनी ने कहा, ‘‘इतने बड़े लक्ष्य के सामने आपको आक्रामक होने की जरुरत है लेकिन आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि अंधाधुंध शाट न खेले जाए। हिटिंग क्लीन होनी चाहिए।’’

कप्तान ने साथ ही कहा, ‘‘हमें गेंदबाजी में सुधार की जरुरत है। यदि आप यार्कर फेंके और वह नीची फुलटास बन जाए तो चलता है लेकिन यदि आप कमर तक फुलटास फेंकेंगे तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है हमें इस क्षेत्र में सुधार करने की जरुरत है।’’