Cricket

नई दिल्ली: सचिन तेंदुलकर के बचपन के दोस्त तथा पूर्व क्रिकेटर विनोद कांबली ने कहा है कि मास्टर ब्लास्टर को विश्वकप 2011 के बाद ही क्रिकेट से संन्यास ले लेना चाहिये था। सचिन को उनके संन्यास के फैसले पर जहां दुनियाभर में दिग्गज क्रिकेटरों से सराहना मिल रही है वहीं उनके बालसखा कांबली का कहना है कि सचिन ने संन्यास लेने का निर्णय बहुत ही देरी से लिया है और उन्हें दो सत्र पहले ही यह निर्णय कर लेना चाहिये था।

पूर्व क्रिकेटर ने कहा ‘सचिन का पिछले कुछ वर्षों में प्रदर्शन बहुत प्रभावित हुआ। उनसे जिस प्रदर्शन की उम्मीद की जाती है वह उसके अनुरूप नहीं खेल रहे थे तथा उन्होंने रन भी नहीं बनाये। यह बहुत ही दुखद है। मुझे लगता है कि सचिन को विश्वकप के बाद ही अपनी रिटायरमेंट की घोषणा करनी चाहिये थी।’ कांबली और सचिन बचपन में एक साथ क्रिकेट खेला करते थे तथा दोनों ही बहुत ही अच्छे दोस्तों के रूप में जाने जाते थे। सचिन और कांबली ने अपनी किशोर अवस्था में अविजित 664 रनों की साझेदारी की थी जो उनका एकसाथ यादगार प्रदर्शन है।