Sports

नई दिल्ली: बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने उन आरोपों को खारिज किया कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड अपने कमेंटेटरों पर रोक लगाता है और उन्होंने जोर देते हुए कहा कि बोर्ड ‘प्रेस की स्वतंत्रता में हस्तक्षेप’ नहीं करता।

श्रीनिवासन ने कहा, ‘‘हम कमेंटेटरों पर रोक नहीं लगाते। यह शब्द ‘सेंसरशिप’ गलत है। बीसीसीआई अपने कमेंटेटरों को यह नहीं कहता कि आप ऐसा कहो, आप ऐसा नहीं कह सकते।’’ हाल में तब विवाद खड़ा हो गया था जब ऑस्ट्रेलियाई पूर्व कप्तान इयान चैपल ने भारत में कमेंटरी का काम लेने से इनकार कर दिया था क्योंकि उन्हें ‘ऐसा करना है और ऐसा नहीं करना’ की सूची प्रस्तुत की गयी थी। श्रीनिवासन ने इस मामले में कुछ भी बोलने से इनकार करते हुए कहा कि चैपल को बीसीसीआई द्वारा नियुक्त नहीं किया गया था।

उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने क्या कहा था? हमने इयान चैपल को नहीं रखा। हमने उन्हें कभी कुछ नहीं कहा। हम अपने द्वारा रखे गये लोगों के बारे में बात कर रहे हैं। बीसीसीआई अपने कमेंटेटरों को कुछ नहीं कहता।’’ श्रीनिवासन ने कहा, ‘‘बीसीसीआई किसी भी तरह प्रेस की स्वंतत्रता में हस्तक्षेप नहीं करता। लेकिन कमेंटेटर को कमेंटेटर ही होना चाहिए और एक पत्रकार को एक पत्रकार।’’