Sports

क्रिकेट टूर्नामेंट इंडियन प्रीमियर लीग में खिलाडिय़ों का हौसला बढ़ाने वाली चियरलीडर्स को अक्सर नीची निगाहों से देखा जाता है। उन्हें खुद को बेचने वाली बाजारू चीज समझा जाता है। लोग इनको देखना तो पसंद करते हैं लेकिन इनसे दोस्ती नहीं करना चाहते। चेहरे पर मेकअप लगाए, फैशनेबल छोटे कपड़े पहनीं ये चियरलीडर्स जितनी ग्लैमरस दिखती हैं, इनके पीछे छुपी सच्चाई उतनी ही अलग है।

 

लेकिन हम आपको बता दें कि आईपीएल के दौरान खिलाडिय़ों का हौंसला बढ़ाने वाली और लोगों का मनोरंजन करने वाली ये चियरलीडर्स कोई बाजारू मॉडल नहीं और न ही कोई कॉल गर्ल हैं। ये भी खिलाडिय़ों की तरह ही खूब मेहनत करने वाली एथलीट होती हैं। अमेरिका में चियरलीडिंग को स्कूल स्पोर्ट्स का हिस्सा माना जाता है।

 

स्कूल की बच्चियां चियरलीडर बनने के लिए कड़ी मेहनत करती हैं। अपनी बेहतरीन एक्टिंग के लिए हॉलीवुड में ढेरों अवार्ड जीत चुकीं सांड्रा बुलॉक हाई स्कूल में चियरलीडिंग टीम का हिस्सा थीं। वे अपने स्कूल की सबसे क्यूट चियरलीडर थीं।