Sports

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज जहीर खान आज यानि कि 7 अक्टूबर को अपना 40वां जन्मदिन मना रहे हैं। महाराष्ट्र में श्रीरामपुर नगर में जन्में जहीर ने क्रिकेट करियर के दाैरान कई कामयाबियों को अपने नाम किया, लेकिन ज्यादादर चोटिल होने की वजह से 2015 को क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। आइए, जानते उनके जीवन और क्रिकेट करियर की कुछ खास बातों के बारे में-

ग्रीम स्मिथ को था जहीर का खौफ
दक्षिण अफ्रीका के कप्तान ग्रीम स्मिथ भले किसी भी मैदान और गेंदबाज के सामने कितने भी कामयाब रहे हों, लेकिन जहीर के सामने उनकी कभी नहीं चली। वे जहीर के सबसे पसंदीदा शिकार रहे। जहीर और ग्रीम स्मिथ का आमना-सामना कुल 25 बार हुआ। इसमें अकेले जहीर ने ग्रीम स्मिथ को 13 बार आउट किया। अकेले 10 टेस्ट पारियों में ग्रीम स्मिथ को जहीर ने आउट किया। इसके अलावा जहीर ने कुमार संगकार को 11 बार, सनथ जयसूर्या और मैथ्यू हेडन को कुल 10-10 बार आउट किया।
PunjabKesari

क्रिकेट में दीवानगी देख पिता ने दिया स्पोर्ट
जहीर खान का जन्म एक मध्यम वर्गीय परिवार से थे। उनके पिता फोटोग्राफर और मां टीचर थीं। अपनी शुरुआती पढ़ाई हिंद सेवा मंडल न्यू मराठी प्राइमरी स्कूल और उसके बाद केजे सोमैया सेकेंड्री स्कूल से की थी। स्कूल खत्म होने के बाद जहीर ने मेकैनिकल इंजीनियरिंग डिग्री कोर्स में दाखिला लिया। जहीर क्रिकेट के दीवाने थे और इस दीवानगी को देखकर ही पिता ने 17 साल की उम्र में उन्हें मुंबई ले आए। जहां जहीर खान ने नेशनल क्रिकेट क्लब के शुरुआती 2 सत्रों के हर मुकाबलों में भाग लिया। 

इस तरह की क्रिकेट की शुरुआत 
शिवाजी पार्क जिमखाना के खिलाफ फाइनल में लिए गए 7 विकेटों ने जहीर खान को सुर्खियों में ला दिया। जिसके बाद जहीर खान को मुंबई और वेस्ट जोन की अंडर-19 टीम में चुन लिया गया। प्रथम श्रेणी का आगाज 1999-2000 में मुंबई की टीम में जगह न मिल पाने के कारण बड़ौदा की तरफ से किया था। इस सीरीज से उन्होंने सभी का दिल जीत लिया और तीसरे सबसे सफल गेंदबाज और बाएं हाथ के सबसे सफल गेंदबाज के थे। 

घरेलू क्रिकेट के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में किया डेब्यू 
जहीर खान को नैरोबी में खेली गई आईसीसी नॉक आउट ट्रॉफी में खेलने का मौका मिला। इस मैच में उन्होंने 3 विकेट लिए और अपने दूसरे मुकाबले में जो कि विश्व चैंपियन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वॉर्टरफाइनल था उसमें जहीर खान ने एडम गिलक्रिस्ट और कप्तान स्टीव वॉ को आउट कर भारत को ऐतिहासित जीत दिला दी। 
PunjabKesari

ऐसा रहा करियर
जहीर अब तक 610 अंतरराष्ट्रीय विकेट ले चुके हैं। जहीर ने टेस्ट में 311 विकेट, वनडे में 282 और टी-20 में 17 विकेट लिए हैं। जहीर खान के नाम प्रथम श्रेणी मैचों में 652 विकेट हैं। लिस्ट ए करियर में उनके नाम 357 और घरेलू टी-20 मुकाबलों में 119 विकेट हासिल किए हैं।

एक नजर इनके रिकाॅर्ड्स पर
- जहीर खान ने विश्व कप 2011 में टीम के मुख्य तेज गेंदबाज थे। टूर्नामेंट में जहीर ने 21 विकेट झटके। 

- 2011 वर्ल्ड कप में वो शाहिद अफरीदी के साथ संयुक्त रूप से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। 

- टेस्ट में 300 से ज्यादा विकेट लेने वाले दूसरे भारतीय तेज गेंदबाज बने।
PunjabKesari

बल्लेबाज भी कम नहीं रहे थे जहीर
अपने करियर में जहीर खान ने कई बार साबित किया है कि वे एक अच्छे बल्लेबाज भी रहे हैं। अपने 12वें एकदिवसीय मुकाबले में जहीर खान ने हेनरी ओलांगा की चार गेंदों में चार छक्के लगाए थे. 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट में 11वें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए जहीर खान ने 75 रन बनाए थे, जो कि वो स्कोर उस समय का 11वें नंबर के बल्लेबाज द्वारा बनाया गया सर्वोच्च स्कोर था जिसे बाद में वेस्टइंडीज के टीनो बेस्ट ने तोड़ दिया था। उसी पारी में जहीर ने 10वें विकेट के लिए सचिन तेंदुलकर के साथ 133 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी की थी।

.
.
.
.
.