Sports

नई दिल्लीः गोल्ड कोस्ट में 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में भारत के युवा खिलाड़ियों ने 2020 के टोक्यो ओलंपिक के लिए अभी से उम्मीदें बंधा दी हैं। भारत ने दो साल पहले 2016 के रियो ओलंपिक में बेहद निराशाजनक प्रदर्शन करते हुए मात्र दो पदक जीते थे जिनमें बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू का रजत और महिला पहलवान साक्षी मलिक का कांस्य पदक शामिल था। इन दो पदकों को छोड़कर अन्य खेलों में भारतीय खिलाड़ियों ने खासा निराश किया था।   

रियो के प्रदर्शन के बाद गोल्ड कोस्ट में 26 स्वर्ण सहित कुल 66 पदकों का प्रदर्शन सराहनीय कहा जा सकता है। यह प्रदर्शन इसलिये भी उल्लेखनीय है क्योंकि इसमें 15 साल के निशानेबाज अनीश भनवाला से लेकर 23 साल की पहलवान विनेश फोगाट ने स्वर्ण पदक जीते हैं।   

इन खेलों में जहां लीजेंड खिलाड़ी एमसी मैरीकॉम और पहलवान सुशील कुमार ने अपनी छाप छोड़ी तो वहीं युवा खिलाड़यिों ने भी तिरंगा बुलंद रखने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। 15 साल के अनीश और 16 साल की निशानेबाज मनु भाकर ने स्वर्णिम प्रदर्शन से खुद को भविष्य के स्टार के रूप में स्थापित किया। निशानेबाजी में 17 साल की मेहुली घोष ने भी रजत पदक जीता।  
 

.
.
.
.
.