Sports

स्पोर्ट्स डेस्कः अनुभवी मिताली राज को अहम मुकाबले में बाहर रखना और बाकी बल्लेबाजों की बुरी तरह नाकामी भारत पर भारी पड़ी और उसका पहली बार आईसीसी महिला विश्व टी20 चैंपियन बनने का सपना सेमीफाइनल में यहां इंग्लैंड के हाथों आठ विकेट की करारी हार के साथ ही टूट गया।  इंग्लैंड फाइनल में आस्ट्रेलिया से भिड़ेगा जिसने एक अन्य सेमीफाइनल में मेजबान और पिछली बार के विजेता वेस्टइंडीज को 71 रन से हराया। भारत ने अपनी सबसे अधिक अनुभवी बल्लेबाज मिताली राज को बाहर रखने का फैसला किया जिस पर निश्चित तौर पर सवाल उठेंगे क्योंकि भारत ने अपने आखिरी आठ विकेट केवल 24 रन के अंदर गंवाये अैर उसकी पूरी टीम 19.3 ओवर में 112 रन पर ढेर हो गई।      
PunjabKesari

इंग्लैंड के सामने आसान लक्ष्य था तथा एमी जोन्स (45 गेंदों पर नाबाद 53) और नताली साइवर (40 गेंदों पर नाबाद 52) ने तीसरे विकेट के लिए 92 रन की अटूट साझेदारी करके मैच को एकतरफा बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इंग्लैंड ने 17.1 ओवर में दो विकेट पर 116 रन बनाये। एक बार फिर से भारतीय महिलाएं बड़े मैच के दौरान अपना जुनून और जज्बा दिखाने में नाकाम रही। पिछले साल भारतीय टीम को 50 ओवरों के विश्व कप के फाइनल में इंग्लैंड से और इस साल एशिया कप टी20 फाइनल में बांग्लादेश से भी हार का सामना करना पड़ा था। 
PunjabKesari
भारत ने गयाना के प्रोविडेन्स में लीग चरण के अपने सभी मैच जीते थे लेकिन उसकी बल्लेबाज सर विवियन रिचड्र्स स्टेडियम की अलग तरह की पिच से सामंजस्य नहीं बिठा पायी। भारत की सात बल्लेबाज दोहरे अंक में भी नहीं पहुंची। ऐसे में टी20 अंतरराष्ट्रीय में सर्वाधिक रन बनाने वाली मिताली को बाहर करने का फैसला साहसिक नहीं बल्कि आत्मघाती साबित हुआ। यह फैसला उसे अगले कई दिनों तक सालता रहेगा तथा कोच रमेश पोवार और कप्तान हरमनप्रीत कौर को इससे जुड़े सवालों से जूझना पड़ेगा।  

PunjabKesari

विकेट धीमी गति के गेंदबाजों के अनुकूल था। गेंद अच्छी तरह से बल्ले पर नहीं आ रही थी और ऐसे में इंग्लैंड की गेंदबाजों ने कहर बरपाया। क्रिस्टी गार्डन (20 रन देकर दो), कप्तान हीथर नाइट (नौ रन देकर तीन) और सोफी एक्लेस्टोन (22 रन देकर दो) ने भारत को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाया। जब भारतीयों की बारी आयी तो उसकी गेंदबाज पूरी तरह नाकाम रही।  सलामी बल्लेबाज स्मृति मंदाना (24 गेंदों पर 33 रन), जेमिमा रोड्रिग्स (26 गेंदों पर 26 रन) और कप्तान हरमनप्रीत कौर (20 गेंदों पर 16 रन) के आउट होने के बाद भारत के पास कोई रणनीति नहीं थी। वेदा कृष्णमूर्ति नहीं चल पायी और दीप्ति शर्मा (दस गेंदों पर सात रन) भी बड़े शाट लगाने में असफल रही। सलामी बल्लेबाज के रूप में उतरी तानिया भाटिया (19 गेंदों पर 11) शुरू से जूझती नजर आयी।      

भारतीय बल्लेबाज विकेट के मिजाज को ही नहीं समझ पाये। उन्होंने स्ट्राइक रोटेट करने के बजाय लंबे शाट खेलने पर ध्यान दिया। जब जोन्स और साइवर खेल रही थी तो यही रणनीति अपनायी तथा आसानी से अपनी टीम को लक्ष्य तक पहुंचाया।  जोन्स ने 47 गेंदों की अपनी पारी में तीन चौके और एक छक्का लगाया जबकि साइवर ने 38 गेंदें खेली तथा पांच चौके लगाये। इन दोनों ने टैमी ब्यूमोंट (एक) और डेनिली वैट (आठ) के जल्दी आउट होने के बाद परिस्थितियों के अनुसार बल्लेबाजी की। भारत की तरफ से दीप्ति शर्मा और राधा यादव ने एक एक विकेट लिया।       

.
.
.
.
.