Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर टीम इंडिया ने टेस्ट सीरीज जीतकर वो इतिहास रच ही दिया जिसकी तलाश उसे लंबे समय से थी। बारिश के कारण चौथा टेस्ट मैच सिडनी के मैदान पर रद्द हो गया और पांचवें दिन का खेल नहीं हो पाया। विराट कोहली के नेतृत्व वाली टीम इंडिया ने चार मैचों की टेस्ट सीरीज 2-1 से अपने नाम की। टीम इंडिया ने 71 साल के बाद ऑस्ट्रेलिया में पहली टेस्ट सीरीज जीती। ऐतिहासिक सीरीज जीत की खुशी कप्तान कोहली के चेहरे पर साफ दिखी, कोहली ने कहा  'सबसे पहले कहना चाहता हूं कि इस टीम का हिस्सा बनने पर सबसे ज्यादा गर्व है। कोहली ने साथ ही कहा कि यह उनके करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि है।'
PunjabKesari
हमारी टीम में बदलाव की प्रक्रिया इसी मैदान से शुरू हुई। मैंने कप्तानी संभाली और चार साल के बाद यहां जीत दर्ज की। इस टीम का नेतृत्व करने पर सिर्फ एक ही शब्द कहूंगा- गर्व। यह मेरे लिए सम्मान की बात है कि इस टीम का प्रतिनिधित्व कर रहा हूं। हमारी टीम के लड़कों ने कप्तान का काम आसान किया। इस सीरीज को जीतने पर काफी भावुक हैं। कोहली ने कहा, 'अब तक यह मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि है। यह सभी उपलब्धियों में सबसे ऊपर है। जब हमने 2011 विश्व कप जीता तब मैं टीम का सबसे युवा खिलाड़ी था। अपने टीम साथियों को भावुक देखा, लेकिन तब मुझे ऐसा महसूस नहीं हुआ। मैं ऑस्ट्रेलिया तीन बार आया, यहां की जीत का मतलब कुछ अलग है। सीरीज जीत से हमे अलग पहचान मिली है। हमने जो उपलब्धि हासिल की है, उस पर मुझे गर्व है।' 
PunjabKesari
कप्तान कोहली ने चेतेश्वर पुजारा और युवा मयंक अग्रवाल की भी जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, 'हमने टीम के रूप में अपनी बल्लेबाजी के बारे में बात की। हम अपने बेसिक्स पर ध्यान देना चाहते थे।पुजारा के बारे में विशेष उल्लेख करना चाहूंगा। उन्होंने सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में पिछली बार की तुलना में इस बार बेहतर प्रदर्शन किया। पुजारा चीजों को स्वीकार करने की ललक रखते हैं। वह अपने खेल पर काम करते हैं और हमारे बीच सबसे अच्छे लड़कों में से एक हैं। हम उनके लिए बहुत खुश हैं।' बकौल कोहली, 'मुझे भरोसा है कि ऑस्ट्रेलिया भी बेहतर टीम बनकर उभरेगी और भविष्य में शानदार प्रदर्शन करेगी। हम सभी आनंद के लिए जीतने के हकदार हैं। हम इस जीत का जश्न लंबे समय तक बनाएंगे। हमारे लड़के शारीरीक और मानसिक रूप से थके हुए हैं और अब किसी को सुबह अलार्म लगाने की जरूरत नहीं है। मैं दर्शकों को भी धन्यवाद देना चाहता हूं। वह बेमिसाल रहे। दर्शकों ने हमें कभी महसूस नहीं होने दिया कि हम घर से बाहर खेल रहे हैं। वह भी इस जीत को महसूस करने के हकदार हैं।'

.
.
.
.
.