Sports

जालन्धर : लगातार क्रिकेट खेल रही भारतीय टीम के खिलाडिय़ों को जनतक होने व अपनी लाइफ के बारे में फैंस को बताने का पहले तो एक ही मौका मिलता है। लेकिन अगर किसी मंच पर इन्हें अपनी जिंदगी के अनुभव शेयर करने का मौका मिलता है तो ऐसे चौंकाने वाले तथ्य सामने आते हैं जिनसे इनके फैंस का हैरान होना स्वाभाविक हो जाता है। एक ऐसा ही तथ्य भारतीय टीम के ओपनर केएल राहुल ने साझा किया है। केएल राहुल ने बताया कि एक बार कमरे की सफाई करते हुए उनकी मां को कमरे से कंडोम मिल गया था। इसके पिता ने पिटाई तो की ही साथ ही साथ शाबाश भी दी थी।

केएल राहुल ने साझा किया जिंदगी का सबसे शर्मनाक पल

when KL Rahul mother find condom in his son room

दरअसल रियालिटी चैट शो ‘कॉफी विद करन’ में केएल राहुल के साथ हार्दिक पांड्या बतौर गैस्ट पहुंचे थे। शो के होस्ट करण ने जब केएल राहुल से जिंदगी के सबसे शर्मिंदगी भरे पल के बारे में पूछा तो उन्होंने बेबाक स्वीकार किया कि कुछ साल पहले उनकी मां को कमरे से कंडोम मिला था।  उन्होंने पिता से उन्हें डांटने के लिए कहा था। पिता ने उनकी खूब पिटाई की थी लेकिन बाद में सुरक्षित यौन संबंध बनाने को लेकर उनकी तारीफ भी की थी। हार्दिक भी इस मामले में कूदे और कहा कि उनकी सेक्स लाइफ को लेकर उनके माता-पिता को कोई आपत्ति नहीं रही। 

हार्दिक बोले- मैं तो मां-बाप को भी बता देता था

when KL Rahul mother find condom in his son room

केएल राहुल के साथ शो में पहुंचे हार्दिक ने अपनी सेक्स लाइफ के राज खोलते हुए कहा कि वह तो अपने माता-पिता को साफ बता देते थे- आज करके आया हूं। हार्दिक की इस बेबाकी पर करण विश्वास नहीं कर पाए। उन्होंने हैरानी प्रकट की कि ऐसी बातों के लिए एक परिवार इतना सहज भी हो सकता है। शो में हार्दिक पांड्या ने लव और सेक्स लाइफ के बारे में खुलकर बात की लेकिन केएल राहुल झिझकते नजर आए। हार्दिक पांड्या ने ब्लैक कम्युनिटी के बारे में खुलकर अपने विचार रखे।

ब्लैक कम्युनिटी से मिलती है स्टाइल और फैशन की प्रेरणा

when KL Rahul mother find condom in his son room

हार्दिक ने कहा कि जिस तरह से ब्लैक कम्युनिटी स्टाइल और फैशन जाहिर करती है, उससे वह हमेशा उसके फैन रहे हैं और उन्हें इससे प्रेरणा मिलती है। अपनी पढ़ाई को लेकर हार्दिक ने कहा कि कक्षा दो के बाद वह हर साल फेल हो जाया करते थे लेकिन स्कूल उन्हें किसी तरह पास कर देते थे। उन्होंने बताया कि वह अक्सर परीक्षा की कॉपी पर अपना नाम और रोल नंबर लिखते थे और उनके टीचर्स और घरवालों को पता था कि वह पढ़ाई को कभी गंभीरता से नहीं लेते हैं। हार्दिक ने बताया कि वह कभी नौवीं कक्षा से आगे नहीं बढ़ पाए।

.
.
.
.
.