Sports

सिडनीः ऑस्ट्रेलिया के तीसरे नंबर के बल्लेबाज मार्नस लाबुशेन ने कहा है कि चौथे टेस्ट के नतीजे में पहली पारी की भूमिका महत्वपूर्ण होगी और उन्हें भारत के चेतेश्वर पुजारा का अनुकरण करते हुए लंबे समय तक बल्लेबाजी करनी होगी।  पुजारा ने पहले दिन नाबाद 130 रन बनाए जिससे भारत ने चार विकेट पर 303 रन का स्कोर खड़ा किया। लाबुशेन ने पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद गुरुवार को कहा, ‘‘वह स्तरीय खिलाड़ी है। क्रीज पर खेलते हुए उसके पास समय और धैर्य होता है। उसने जिस तरह बल्लेबाजी की उसे निजी तौर पर मैं सीख लेना चाहूंगा। उसने काफी लंबे समय तक बल्लेबाजी की और वह पूरी श्रृंखला के दौरान ऐसा करता रहा। हमें भी ऐसा ही करने की जरूरत है जिससे कि बड़ा स्कोर बना सकें।’’

यह श्रृंखला में पुजारा का तीसरा शतक है। इससे पहले एडीलेड और मेलबर्न में क्रमश: पहले और तीसरे टेस्ट की पहली पारियों में भी उन्होंने शतक जड़ा था। लाबुशेन ने कहा, ‘‘अगर कल गेंदबाज सही लाइन और लेंथ के साथ सही क्षेत्र में गेंदबाजी करते हैं तो मुझे भरोसा है कि हम जल्दी विकेट हासिल कर सकते हैं और उन्हें 400 रन से कम के स्कोर पर आउट कर सकते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘विकेट तीन दिन तक अच्छा रहता है और इसके बाद तेजी से टूटता है। इसलिए हमारे लिए पहली पारी महत्वपूर्ण होगी।’’ लेग स्पिन गेंदबाजी करने वाले लाबुशेन ने पुजारा को गेंदबाजी की तो इस बल्लेबाज ने उनके पहले ही ओवर में तीन चौके जड़ दिए। इस आलराउंडर ने पूरे दिन में सिर्फ चार ओवर गेंदबाजी की।
Marnus Labuschagne image        

अपने तीसरे ही टेस्ट में तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने की भूमिका के बारे में पूछने पर लाबुशेन ने कहा, ‘‘थोड़ा दबाव था। पहली गेंद ठीक थी और इसके बाद मैंने कुछ शार्ट गेंद फेंकी। अंतिम तीन ओवर गेंदबाजी के लिए जब मैं आया तो मैं सकारात्मक था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पता है कि कल मेरी भूमिका एक छोर पर रन गति पर अंकुश रखना और तेज गेंदबाजों को आराम देना होगी जिससे कि यह सुनिश्चित हो सके कि वे प्रत्येक स्पैल के लिए तरोताजा होकर आएं।’’ एडीलेड और मेलबर्न में भारत ने जीत दर्ज की जबकि आस्ट्रेलिया ने पर्थ में बाजी मारी जिससे मेहमान टीम श्रृंखला में 2-1 से आगे है। लाबुशेन ने कहा, ‘‘मैंने अपने करियर में अधिकांश समय क्वीन्सलैंड के लिए तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी की है और मैं इस स्थान पर सहज हूं। कल अच्छी चुनौती होगी और मैं इसे लेकर उत्सुक हूं।’’    

.
.
.
.
.