Sports

हैदराबाद : भारतीय बैडमिंटन टीम के राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद ने सोमवार को कहा कि देश में बैडमिंटन की बढ़ती लोकप्रियता के साथ खिलाडिय़ों की संख्या काफी बढ़ी है लेकिन उस अनुपात में कोच नहीं बढ़े जिस पर ध्यान देने की जरूरत है। पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने कहा- देश में अच्छे कोचों की काफी कमी है। हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती बेहतरीन कोच की अगली पीढ़ी को तैयार करने की है।
उन्होंने कहा- हाल के दिनों में विदेशी कोच पर निर्भरता बढ़ गई है ऐसे में यह जरूरी है कि हम घरेलू कोच तैयार करे और यह साझेदारी उस दिशा में एक बड़ा कदम है। गोपीचंद अकादमी में जल्द ही एक हाई परफोर्मेंस प्रशिक्षण केंद्र का निर्माण होगा जिसमें 6 वातानुकुलित बैडमिंटन कोर्ट और एक स्पोट््र्स साइंस सेंटर होगा। इस केंद्र में खिलाडिय़ों को न्यूट्रीटनिस्ट, फिजियोथेरेपिस्ट और स्ट्रेंथ एवं कंडिस्ंिनग विशेषज्ञों के साथ अच्छे कोच भी मिलेंगे।

.
.
.
.
.