Sports

मुंबई : भारत के स्टार टेबल टेनिस खिलाड़ी शरत कमल ने गुरुवार को कहा कि उनका लक्ष्य 2019 में शीर्ष 20 में जगह बनाने का है और उनके दिमाग में अगली बड़ी चीज 2020 तोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना है। शरत ने कहा कि पिछले साल इंडोनेशिया में एशियाई खेलों में भारत ने टेबल टेनिस में जो दो कांस्य पदक जीते उससे उनमें यह आत्मविश्वास जगा है कि 2020 ओलंपिक में पदक जीता जा सकता है।

पूर्व राष्ट्रीय चैंपियन कमलेश मेहता की मौजूदगी में 26 साल के शरत ने कहा, ‘‘निजी तौर पर, 2019 में मेरा लक्ष्य है कि विश्व रैंकिंग में शीर्ष 20 में जगह बनाऊं और 2020 ओलंपिक खेल अगली बड़ी चीज है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘योजनाओं का बड़ा हिस्सा तोक्यो ओलंपिक खेल 2020 है, विशेषकर एशियाई खेलों में पदक जीतने के बाद- हमने 60 साल में दो कांस्य पदक जीते। इन पदकों ने हमें काफी आत्मविश्वास दिया कि ओलंपिक में भी यह (पदक जीतना) संभावना है।’’ रिकार्ड नौ बार राष्ट्रीय पुरुष एकल खिताब जीतने वाले शरत ने कहा, ‘‘एशियाई खेलों में प्रतिस्पर्धा काफी कड़ी है और ओलंपिक में भी अधिकांश यही टीमें खेलेगी, इसके अलावा कुछ यूरोपीय टीमें होंगी। अगर हम एशियाई खेलों में पदक जीत सकते हैं तो ओलंपिक खेलो में पदक काफी दूर नहीं है।’’

शरत की अगुआई में भारत की पुरुष टीम ने एशियाई खेलों में जापान की मजबूत टीम को हराकर उलटफेर करते हुए कांस्य पदक हासिल किया जिससे टेबल टेनिस में पदक का भारत का 60 साल का इंतजार खत्म हुआ। शरत और उभरती हुई स्टार मनिका बत्रा ने मिश्रित युगल में भी हैरान करते हुए कांस्य पदक जीता जिससे ओलंपिक पदक की उम्मीद बंधी है। चेन्नई में जन्में शरत ने कहा कि तोक्यो ओलंपिक खेलों के लिए तैयारी शुरू हो चुकी है।      

.
.
.
.
.