Sports

ग्रेटर नोएडाः उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने हरियाणा की तर्ज पर चलते हुये अपने राज्य के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता को छह करोड़ रूपये की भारी पुरस्कार राशि देने की गुरूवार को घोषणा की। उत्तर प्रदेश के खेल मंत्री चेतन चौहान ने यहां प्रो कबड्डी लीग टीम यूपी योद्धा की जर्सी लाँच के अवसर पर यह घोषणा की। चौहान ने इस अवसर पर कहा, ''यूपी सरकार ओलंपिक के अपने स्वर्ण पदक विजेता को छह करोड़ रूपये को, रजत विजेता को चार करोड़ रूपये और कांस्य पदक विजेता को दो करोड़ रूपये का नगद पुरस्कार देगी।''

चौहान ने इसके साथ ही बताया कि इस साल राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में उत्तर प्रदेश के स्वर्ण विजेता खिलाड़ियों को 50 लाख रूपये, रजत विजेता को 30 लाख रूपये और कांस्य पदक विजेता को 20 लाख रूपये दिये जाएंगे। उन्होंने बताया कि आगामी दो अक्टूबर को लखनऊ में एक भव्य समारोह आयोजित कर खिलाड़ियों को यह नगद पुरस्कार दिये जाएंगे। खेल मंत्री ने बताया कि इंडोनेशिया में हुये 18वें एशियाई खेलों में राज्य के 44 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था जिनमें से 11 ने पदक जीते हैं। यूपी के खेल मंत्री ने बताया कि जिन खिलाड़ियों ने इन खेलों में हिस्सा लिया लेकिन पदक नहीं जीत सके थे उन्हें भी भागीदारी के लिये 5-5 लाख रूपये दिये जाएंगे। गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में यूपी के खिलाड़ियों ने 7 पदक जीते थे और इस अवसर पर उन्हें भी नगद पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।

PunjabKesari

चौहान ने साथ ही घोषणा की कि राज्य के 11 सरकारी विभागों में खिलाड़ियों के लिये नौकरियां खोल दी गयी हैं और पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को क्लॉस-2 की सरकारी नौकरी दी जाएगी। लेकिन खिलाड़ी का स्नातक होना अनिवार्य है। यदि खिलाड़ी स्नातक नहीं है तो उसे स्नातक की डिग्री हासिल करने के लिये चार वर्ष का समय दिया जाएगा। उन्होंने राज्य के उन रिटायर्ड अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को 20 हजार रूपये प्रति माह की पेंशन देने की भी घोषणा की जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीते हैं और द्रोणाचार्य, अर्जुन, ध्यानचंद तथा राज्य के खेल पुरस्कारों को हासिल किया है। 

PunjabKesari

उन्होंने कहा कि इस पेंशन से रिटायर्ड खिलाड़ियों को सम्मान के साथ जीवन जीने का मौका मिलेगा और उन्हें परेशान नहीं होना पड़ेगा। चौहान ने कहा, ''यूपी के 18000 गांवों तक खेलों की पहुंच बनाई जाएगी। इसके लिये इन गांवों में 15 से 27 वर्ष तक के खिलाड़ियों के लिये युवक मंगल दल बनाये जाएंगे जो खेलों का आयोजन करेंगे और इनमें से खिलाड़ियों को चुना जाएगा। राज्य सरकार केंद्र सरकार की खेलो इंडिया योजना के तहत उत्तर प्रदेश में कबड्डी, कुश्ती, भारोत्तोलन और एथलेटिक्स का आयोजन करेगी। राज्य में भारतीय और ग्रामीण खेलों को विशेष रूप से बढ़ावा दिया जाएगा। खिलाड़ी अपने प्रदर्शन पर ध्यान रखें और योगी सरकार खिलाड़ियों का ध्यान रखेगी।''

.
.
.
.
.