Sports

नई दिल्लीः एशिया कप की शुरूआत भले ही 15 सितंबर को बांग्लादेश-श्रीलंका के मुकाबले से होगी, लेकिन असली रोमांच तब पैदा होगा जब 19 को भारत का सामना चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान से होगा। दोनों के बीच आखिरी मुकाबला गत चैंपियंस ट्राॅफी के दाैरान 18 जून 2017 को हुआ था। हालांकि पाकिस्तान ने 180 रनों से जीत दर्ज कर खिताब पर कब्जा किया था। अगर एशिया कप में दोनों का रिकाॅर्ड देखा जाए तो भारत का पलड़ा भारी ही है। दोनों के बीच 11 मैच हुए हैं, जिसमें 6 भारत जो 5 पाकिस्तान ने जीते हैं। भारत जीत के रिकाॅर्ड को आैर बेहतर बनाना चाहेगा वहीं पाकिस्तान भी हर हाल में जीत चाहेगा। ऐसे में भारत को 3 ऐसे पाकिस्तानी खिलाड़ियों से बचना होगा जो जीत में रोड़ा बन सकते हैं। काैन हैं वो 3 खिलाड़ी आइए जानें-

फखर जमन
PunjabKesari
पाकिस्तान टीम के लिए माैजूदा समय में ओपनर फखर जमन ऐसे खिलाड़ी हैं, जिनकी अच्छी शुरूआत के साथ बाकी खिलाड़ियों में जान भरती है। पिछले कुछ समय से फखर बेहतरीन फाॅर्म में चल रहे हैं। उनके बल्ले से पिछले 5 वनडे में 515 रन निकले हैं जिसमें 2 अर्धशतक, 1 शतक आैर 1 दोहरा शतक शामिल है। बता दें कि फखर ने भारत के खिलाफ अभी तक 1 ही मैच खेला है। चैंपियंस ट्राॅफी के फाइनल में भारत की हार का मुख्य कारण फखर ही बने थे। उन्होंने 106 गेदों में 114 रन बनाए थे, जिसकी बदाैलत पाकिस्तान ने भारत के सामने 339 रनों का लक्ष्य रखा था। ऐसे में भारतीय गेंदबाजों को किसी भी हाल में फखर को जल्दी निपटाने की रणनीति बनानी होगी। फखर की आखिरी 5 वनडे पारियां- 85, 210*, 43*, 117*, 60 

हसन अली
PunjabKesari
हसन पाकिस्तान के अहम गेंदबाज बन चुके हैं। वहीं हसन ने भारत के खिलाफ खेले अपने आखिरी मैच में सनसनी फैला दी थी। चैंपियंस ट्राॅफी के फाइनल में हसन ने 6.3 ओवर की गेंदबाजी करते हुए महज 19 रन देकर 3 विकेट झटके थे। वहीं यह गेंदबाज अबतक खेले 33 वनडे मैचों में 68 शिकार कर चुका है। ऐसे में इस खतरनाक गेंदबाज से भारतीय बल्लेबाजों को बचना होगा। 

शोएब मलिक
PunjabKesari
पाकिस्तान के सबसे अनुभवी खिलाड़ी शोएब मलिक भारत की जीत में भंग डाल सकते हैं। यह हम नहीं आंकड़े कहते हैं। मलिक पिछले 19 सालों से खेल रहे हैं आैर वह भारतीय टीम की खामियों से भलि-भांति परिचित होंगे। भारत के खिलाफ मलिक के रिकाॅर्ड की बात करें तो उन्होंने 39 मैच खेलकर 47.45 की आैसत से 1661 रन बनाए हैं। इसके अलावा उनके बल्ले से 4 शतक भी निकल चुके हैं। 

.
.
.
.
.