Sports

पेरिस: विश्व के नंबर एक खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच की निगाहें पेरिस में अपना ‘जोको स्लेम' पूरा करने पर लगी हैं तो क्ले कोटर् के बादशाह स्पेन के राफेल नडाल रविवार से शुरू हो रहे फ्रेंच ओपन में रिकार्ड 12वीं बार खिताब जीत इतिहास रचने के लिए अपनी चुनौती पेश करेंगे। 
       
रविवार से शुरू हो रहे वर्ष के दूसरे ग्रैंड स्लेम में दुनिया के दिग्गज टेनिस खिलाड़यिों पर सभी की निगाहें लगी हैं। विश्व के नंबर एक खिलाड़ी जोकोविच यदि खिताब जीतते हैं तो वह एक साथ चारों ग्रैंड स्लेम दो बार जीतने वाले इतिहास के मात्र दूसरे टेनिस खिलाड़ी बन जाएंगे। इससे पहले रॉड लेवर ने यह कारनामा 1962 तथा 1969 में किया था। लेवर ने तब एक कैलेंडर वर्ष में चारों ग्रैंड स्लेम जीते थे। जोकोविच ने वर्ष 2016 में पहली बार रोलां गैरों खिताब के साथ अपना चारों स्लेम जीतने का पहली बार रिकार्ड बनाय़ा था। वर्ष 2018 में विंबलडन और यूएस ओपन के बाद उन्होंने इस वर्ष जनवरी में आस्ट्रेलियन ओपन जीता था और अब एक लय में उनके निशाने पर फ्रेंच ओपन का खिताब है। 

हालांकि रोजर फेडरर और नडाल उनकी राह में दो बड़ी बाधाएं होंगी। विश्व के दूसरे नंबर के खिलाड़ी नडाल क्ले कोटर् के बादशाह माने जाते हैं और 11 बार फ्रेंच ओपन खिताब जीत चुके हैं। उनकी निगाहें अब 12वीं बार रोलां गैरों में चैंपियन बनने पर लगी हैं जबकि स्विस मास्टर दो वर्षों के लंबे अंतराल बाद क्ले कोटर् स्लेम में खेलने उतर रहे हैं। फेडरर ने करियर में 20 और नडाल ने 17 ग्रैंड स्लेम जीते हैं जबकि जोकोविच के नाम 15 मेजर खिताब हैं। हालांकि ये दोनों एक बार भी चारों स्लेम एक साथ नहीं जीत सके हैं। सर्बियाई खिलाड़ी यदि ऐसा कर पाए तो वह टेनिस इतिहास के मात्र दूसरे ऐसे खिलाड़ी होंगे। 

.
.
.
.
.