Sports

लखनऊ : भारत की स्टार शटलर साइना नेहवाल ने सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन ग्रां प्री के महिला एकल वर्ग के खिताबी दौर में पहुंच गईं। लखनऊ स्थित बीबीडी बैडमिंटन एकेडमी में खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में पूर्व चैम्पियन साइना ने इंडोनेशिया की रुसेली हरतावन को 12-21, 21-7, 21-6 से परास्त करके फाइनल में प्रवेश कर लिया। विश्व रैंकिंग में नौवें नंबर की शटलर साइना ने ढीली शुरुआत के बाद अपने अनुभव का पूरा इस्तेमाल किया और 2015 के बाद दूसरी बार यह खिताब जीतने की ओर कदम बढ़ा दिए।

फाइनल में दुनिया की नौवें नम्बर की शटलर साइना का मुकाबला चीन की हान यू से होगा, जिन्होंने एक अन्य सेमीफाइनल में हमवतन एलआई ज्वरुई को 21-15, 19-21, 21-9 से शिकस्त देकर खिताबी दौर में जगह बनाई। सेमीफाइनल में साइना का सफर आशा के अनुरूप नहीं रहा। पहले गेम में भारतीय शटलर को इंडोनेशियाई प्रतिद्वंद्वी ने कई मौकों पर छकाया और चौंकाया। नतीजतन उन्हें यह गेम 12-21 से गंवाना पड़ा। साइना के यूं पिछडऩे से भारतीय दर्शकों में कुछ निराशा नजर आई।

हालांकि दूसरे गेम में साइना ने जबर्दस्त पलटवार किया और रुसेली को कोई मौका नहीं दिया। उनके जोरदार प्रहारों के आगे इंडोनेशिया खिलाड़ी बेबस नजर आईं। साइना ने दमदार खेल का प्रदर्शन करते हुए यह गेम आसानी से 21-7 से जीत लिया। तीसरे गेम में भी साइना पूरी तरह हावी रहीं और उन्हें उसे 21-6 से जीतने में ज्यादा वक्त नहीं लगा। उधर, पुरुष एकल वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले में गत चैम्पियन भारत के समीर वर्मा ने इंडोनेशिया के चीको वरदोयो को 21-13, 17-21, 21-8 से पराजित करके फाइनल का सफर तय कर लिया।

समीर वर्मा भी खिताबी मुकाबले में पहुंचे

खिताबी दौर में समीर का मुकाबला चीन के लू ग्वांगझू से होगा, जिन्होंने थाईलैंड के सित्तीकोम थमासिन को 10-21, 21-16, 21-17 से परास्त किया। खिताब बचाने के दबाव के साथ सेमीफाइनल में उतरे मौजूदा चैम्पियन समीर ने पहले गेम से ही प्रतिद्वंद्वी को दबाव में लेने की रणनीति अपनायी, जिसमें वह सफल भी रहे। समीर ने प्रतिद्वंद्वी को कई गलतियां करने के लिये मजबूर किया। नतीजतन यह गेम 21-13 से उनकी झोली में गिरा।

दूसरे गेम में इंडोनेशियाई शटलर ने वापसी की कोशिश की और समीर को कड़ी टक्कर दी। इस गेम में वरदोयो ने भारतीय प्रतिद्वंद्वी से खासी मशक्कत करवाई और उन्हें इसका फल भी मिला। उन्होंने यह गेम 21-17 से जीता। मगर, तीसरे गेम में समीर ने अपना पूरा अनुभव उड़ेलते हुए प्रतिद्वंद्वी को चारों खाने चित कर दिया। उनके तेजतर्रार खेल के वरदोयो कई बार लाचार दिखे और मौजूदा चैम्पियन ने यह गेम आसानी से 21-8 से जीतकर लगातार दूसरी बार खिताबी दौर में प्रवेश कर लिया।

.
.
.
.
.