Sports

कोलकाताः एशियाई खेलों की स्वर्ण पदकधारी हेप्टाथलीट स्वप्ना बर्मन ने पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा घोषित 10 लाख रूपए के पुरस्कार पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया लेकिन कहा कि अगर उनके ट्रेनिंग बेस के करीब शहर में उन्हें घर मिल जाए तो उन्हें अच्छा लगेगा। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हेप्टाथलन में स्वर्ण पदक आने के बाद स्वप्ना को 10 लाख रूपए और सरकारी नौकरी का वादा किया था।

PunjabKesari

इस घोषणा की काफी आलोचना हुई क्योंकि हरियाणा सरकार ने प्रत्येक स्वर्ण पदकधारी एथलीट को तीन तीन करोड़ रूपए की पेशकश की जबकि पड़ोसी राज्य ओडि़सा ने धाविका दुती चंद के लिए तीन करोड़ रूपए की घोषणा की जिन्होंने दो रजत पदक जीते। स्वप्ना ने साई परिसर में सम्मान समारोह में पत्रकारों से कहा, ‘‘मुझे कोई टिप्पणी नहीं करनी। मैंने सुना कि सरकार ने मुझे और मेरे भाई को सरकारी नौकरी देने का वादा किया। मुझे काफी पेशकश मिल रही हैं और मैंने अभी तक फैसला नहीं किया है।’’ 

PunjabKesari

यह पूछने पर कि वह राज्य सरकार से कुछ और चाहती हैं तो उन्होंने कहा, ‘‘मैं सिर्फ साल्ट लेक में साई परिसर के करीब एक स्थायी निवास चाहती हूं। मैं अभी साई परिसर में रहती हूं लेकिन अगर मेरा प्रदर्शन नहीं होता तो मेरे पास कोई जगह नहीं होती। इसलिये अगर सरकार मुझे एक घर दिला दे तो यह काफी फायदेमंद होगा।’’

.
.
.
.
.