Sports

नई दिल्ली : आई-लीग में खेलने वाले सात क्लबों ने बुधवार को अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ पर अनुचित व्यवहार का आरोप लगाते हुए सुपर कप से नाम वापस ले लिया जिससे दो दिनों के बाद शुरू होने वाले इस टूर्नामेंट पर अनिश्चितता के बादल मंडराने लगे हैं। एआईएफएफ र्चिचल ब्रदर्स को टूर्नामेंट से नहीं हटने के लिए मनाने में सफल रहा लेकिन चेन्नई सिटी, पूर्वी बंगाल, मोहन बागान, नेरोका एफसी, आइजोल एफसी, गोकुलम केरल और मिनर्वा पंजाब एकजुटता के साथ राष्ट्रीय महासंघ का विरोध कर रहे है।

क्लबों ने साझा बयान में कहा, ‘हमने आगामी हीरो सुपर कप 2019 से अपनी संबंधित टीमों की भागीदारी को वापस लेने का फैसला किया है।’ सुपर को भुवनेश्वर में आयोजित किया जाना है, जिसके क्वालीफायर मुकाबले 15 मार्च से शुरू होंगे। फाइनल 13 अप्रैल को खेला जाएगा। मिनर्वा पंजाब एफसी ने मंगलवार को ही आई लीग क्लबों के खिलाफ अनुचित बर्ताव का हवाला देते हुए इससे हटने का फैसला किया था। सुपर कप एआईएफएफ का नॉकआउट टूर्नामेंट है जहां आई-लीग की टीमें इंडियन सुपर लीग की टीमों के खिलाफ खेलती है। मिनर्वा को 15 मार्च को एफसी पुणे सिटी के खिलाफ क्वालीफाइंग दौर का मुकाबला खेलना था।

.
.
.
.
.