Sports

जालन्धर : आईपीएल-11 में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु का प्रदर्शन अब तक निराशा से ही भरा है। टीम टॉप-4 में जाने के लिए संघर्ष कर रही है। टीम के कप्तान विराट कोहली हालांकि इक्का-दुक्का पारियों में तो रन बना रहे हैं लेकिन टीम को जितवाने में वह अपनी भूमिका मजबूत नहीं कर पा रहे। शनिवार को चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ बेहद महत्वपूर्ण मैच में रविंद्र जडेजा की गेंद पर बोल्ड हुए कोहली की एक बड़ी कमजोरी सामने आ गई। 

भारतीय पिच जिसे स्पिनरों के लिए पूरी दुनिया में स्वर्ग माना जाता वहां कोहली इस साल आईपीएल में बुरी तरह फेल नजर होते आ रहे हैं। सामने आए कुछ आंकड़ों के मुताबिक इस बार आईपीएल-11 के नौ मैचों में वह स्पिनरों से चार बार आऊट हो चुके हैं। उनका प्रदर्शन भी स्पिनरों के खिलाफ खास नहीं रहा है। यह मामले में वह स्पिनरों के खिलाफ लगभग 36 की औसत व 120 की स्ट्राइक रेट से ही रन बना पाए हैं जोकि कोहली जैसे बड़े स्टार की कलई खोलने के लिए काफी है।

आईपीएल में 158 मैच खेलकर 4775 रन बना चुके विराट कोहली का इस सीजन से पहले स्पिनरों के खिलाफ बहुत बढिय़ा रिकॉर्ड था। 2013 से लेकर 2017 तक तो वह स्पिनरों के खिलाफ बेहद आक्रमक नजर आए। इस दौरान खेली 72 पारियों के दौरान वह स्पिनरों के हाथों सिर्फ छह बार आऊट हुए। जबकि उन्होंने 170 की औसत और 139 की औसत से रन बनाए थे।

जडेजा तीन बार कर चुके हैं कोहली को आऊट
रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच पुणे में लगे मैच दौरान चेन्नई के स्पिनर रवींद्र जडेजा ने एक बार फिर विराट कोहली की विकेट निकाली। वह अब तक तीन बार कोहली को आऊट कर चुके हैं। उनका पसंदीदा शिकार शेन वॉटसन है जिन्हें वह पांच बार आऊट कर चुके हैं। इसके बाद स्टीव स्मिथ चार बार, ग्लेन मैक्सवेल और रोबिन उथप्पा तीन बार शामिल हैं।