Sports

कोलंबो : विश्प कप के खराब प्रदर्शन के बाद पद से हटने के दबाव के बीच चंद्रिका हथुरूसिंघा ने सोमवार को यहां कहा कि वह श्रीलंकाई क्रिकेट टीम का कोच बने रहना चाहेंगे। श्रीलंका की टीम को टूर्नामेंट से पहले भी खिताब की दावेदार नहीं मानी जा रही थी और 10 टीमों की प्रतियोगिता में छठे पायदान पर रही। श्रीलंका हालांकि उन तीन टीमों में शामिल था जिसने मेजबान इंग्लैंड को पटखनी दी। 

सेमीफाइनल में जगह पक्की कर चुके इंग्लैंड ने विश्व कप का अभियान शीर्ष रैंकिंग की टीम के तौर पर किया था। स्थानीय मीडिया की खबरों के मुताबिक श्रीलंका के खेल मंत्री हारिन फर्नांडो हथुरूसिंघा के प्रदर्शन से खुश नहीं है और उन्हें पद छोड़ने के लिए कहा जाएगा। हथुरूसिंघा ने हालांकि यहां पहुंचने के बाद कहा कि उन्हें टीम से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद थी लेकिन वह करार के मुताबिक टीम का कोच बने रहेंगे। उन्होंने कहा, ‘अभी 16 महीने का मेरा कार्यकाल बचा हुआ है। मुझे उम्मीद है कि मैं अपने करार तक कोच बना रहूंगा।' उनसे जब पूछा गया कि वह टीम की खराब प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेंगे तो उन्होंने कहा कि पूरे टीम प्रबंधन को जिम्मेदारी साझा करना चाहिए। 

उन्होंने कहा, ‘जो हुआ उसके लिए हम सभी को जिम्मेदारी लेनी चाहिए। हम बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रहे थे। हमें इससे सीख कर आगे बढ़ना चाहिए। मुझे लगता है मैंने अपनी क्षमता के मुताबिक सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है।' श्रीलंका ने विश्प कप में तीन मुकाबलों में जीत दर्ज की जबकि चार में उसे हार का सामना करना पड़ा और दो मैच बारिश की भेंट चढ़े।  

.
.
.
.
.