Sports

जालन्धर : भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान सरदार सिंह ने समय से पहले रिटायरमैंट लेने की वजह सामने लाकर अपने फैंस को चौंका दिया है। सरदार सिंह का कहना है कि हॉकी इंडिया के हाई परफॉर्मेंस डायरेक्टर डेविड जॉन और पूर्व कोच शोर्ड मारिन के कारण उन्हें हॉकी खेलना छोडऩा पड़ा। पूर्व कप्तान सरदार ने कहा कि कोच रोलेंट ऑल्टमैंस को हॉकी इंडिया का कोच पद से हटाना उनके खिलाफ गया। उनकी जगह नीदरलैंड्स के शोर्ड मारिन ने ली, जो करियर खत्म होने के लिए सबसे बड़ी वजह बने। 

PunjabKesarisports sardar singh

सरदार ने कहा कि हमने 2017 का एशिया कप जीत लिया था लेकिन जॉन और नए कोच टीम में युवा खिलाड़ी चाहते थे। उन्होंने बिना किसी से बातचीत किए मुझे बाहर कर दिया। इसके बाद सुल्तान अजलन शाह-2018 में जूनियर खिलाडिय़ों के साथ भेज दिया गया। फिर कॉमनवेल्थ गेम्स में मुझे नजरअंदाज किया गया। तब में सेच रहा था कि 2020 ओलिम्पिक के लिए खुद को फिट रखूं तो उनकी दोबारा टीम में सिलेक्शन नहीं हुई। इससे नराश होकर उन्होंने संन्यास लेना ही उच्चित समझा। 

PunjabKesarisports Sardar singh

सरदार ने साफ कहा कि वह भारत के लिए 314 मैच खेल चुके हैं। बीते महीनों नैशनल कैंप के दौरान यो-यो टैस्ट में उनके 21.4 स्कोर होने के बावजूद कोच जॉन ने उनका मजाक बनाया था। गौरतलब है कि जब कॉमनवेल्थ में भारतीय हॉकी टीम चौथे नंबर पर रही तो मारिन को कोच पद पर से हटा दिया गया। उनकी जगह हरेंद्र सिंह कोच बने। दूसरी ओर, जॉन अब भी हाई परफॉर्मेंस डायरेक्टर हैं। 

.
.
.
.
.