Sports

गोल्ड कोस्टः निशानेबाज श्रेयसी सिंह ने आज यहां राष्ट्रमंडल खेलों के 21 वें चरण में पुरूष डबल ट्रैप स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीतने के बाद इसे अपने करियर के लिये ‘ मील का पत्थर ’ करार दिया। यह स्वर्ण उनके लिए इसलिए भी विशेष है क्योंकि अगले निशानेबाजी की स्पर्धा राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा नहीं होगी। लेकिन 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में जब वह खेलने गयी थी  उससे पहले उनके पिता का निधन हो गया था तो वह पूरी तरह से टूटी हुई थीं। 
PunjabKesari

उन्होंने देश को 12वां स्वर्ण पदक दिलाने के बाद कहा, ‘‘यह पदक मेरे लिए मील के पत्थर होगा।’’ एनआरएआई के पूर्व अध्यक्ष दिग्विजय सिंह की बेटी श्रेयसी का 2010 में अभियान अपने पिता के निधन के कारण काफी खराब रहा था। उन्होंने कहा, ‘‘यह मेरे करियर का सबसे बड़ा पदक है, सबसे ऊपर। यह काफी विशेष भी है क्योंकि निशानेबाजी 2022 राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा नहीं होगी। ’’          
PunjabKesari
चुनाैती के लिए पहले से तैयार थीं श्रेयसी
लाजिस्टिकल मुद्दों के कारण 2022 बर्मिंघम राष्ट्रमंडल की स्पर्धाओं से निशानेबाजी को हटा दिया गया है क्योंकि आयोजकों ने इसके लिए स्थल तैयार करने में अक्षमता जाहिर की। इस 26 वर्षीय निशानेबाज ने कहा, ‘‘यह पदक लंबे समय तक प्रेरित करता रहेगा ।’’ श्रेयसी ने शूट आॅफ के बाद पदक जीता। उन्होंने कहा, ‘‘मैं निश्चित रूप से नर्वस थी लेकिन साथ ही आत्मविश्वास से भी भरी थी। सच कहूं तो मैं चुनौती के लिए तैयारी थी, मैं किसी भी हालत में पीछे हटने को तैयार नहीं थी। अगर आप पूछोगे कि अभी मैं कैसा महसूस कर रही हूं तो यह सिर्फ खुशी ही है। ’’     

.
.
.
.
.