IPL 2019
Sports

शमकीर सिटी,अजरबैजान ( निकलेश जैन ) विश्व के दिग्गज 10 खिलाड़ियों के साथ शमकीर मास्टर्स शतरंज में भारत के विश्वनाथन आनंद को रूस के सेरगी कार्यकिन के हाथो हार का सामना करना पड़ा । काले मोहरो से खेल रहे आनंद नें एक बार फिर क्यूजीडी ओपनिंग का सहारा लिया और लगभग बराबर की स्थिति मे एक बार फिर वह एंडगेम मे पराजित हो गए । कार्लसन के खिलाफ इसी प्रतियोगिता मे आनंद को दूसरे राउंड मे लगभग इसी तरह की स्थिति का सामना करना पड़ा था । कार्यकिन नें आनंद के दो अलग अलग कमजोर प्यादो को निशाना बनाते हुए अपने दोनों हाथी और घोड़े के शानदार तालमेल से विजय प्राप्त की । खेल मे 31 चालों के बाद ही आनंद की स्थिति बचाव की हो गयी थी और 52 चालों तक चले कड़े मुक़ाबले मे उन्हे हार स्वीकार करनी पड़ी । 

इस जीत के साथ ही अब कार्याकिन 4 अंको के साथ विश्व चैम्पियन मेगनस कार्लसन के साथ संयुक्त बढ़त पर आ गए है । नॉर्वे के कार्लसन नें इस राउंड मे चीन के डींग लीरेन से ड्रॉ खेला वही पूर्व विश्व चैम्पियन बुल्गारिया के वेसेलीन टोपालोव नें मेजबान अजरबैजान के नंबर 1 खिलाड़ी शाकिरयार ममेद्यारोव को पराजित किया । अन्य दो मुक़ाबलों में नीदरलैंड के अनीश गिरि और चेक गणराज्य के डेविड नवारा , रूस के अलेक्ज़ेंडर ग्रीसचुक और अजरबैजान के तिमुर रद्ज्बोव के बीच बाजी अनिर्णीत रही । 

PunjabKesari

इससे पहले राउंड 5 में नीदरलैंड के अनीश गिरि को मात देते हुए अंक तालिका में सयुंक्त दूसरा स्थान हासिल कर लिया है । विश्व नंबर 4 अनीश गिरि पर आनंद की यह पहली क्लासिकल जीत है इससे पहले उनके बीच हुए 17 मुक़ाबले में 2 मुक़ाबले अनीश नें जीते थे जबकि  मैच ड्रॉ रहे थे । राय लोपेज ओपनिंग के बर्लिन डिफेंस में हुए इस मुक़ाबले में आनंद नें सफ़ेद मोहोरो से खेलते हुए शुरुआत से ही अपने प्यादो से केंद्र को नियंत्रित रखने की योजना बनाई और अनीश बोर्ड में आनंद की इस योजना का जबाब वजीर की तरफ से आक्रमण करने की बजाय राजा के हिस्से में चले गए परिणाम स्वरूप आनंद नें अपने ऊंट और घोड़े के अच्छे खेल से अनीश के मोहरो के बीच तालमेल बिगाड़ दिया और अपने प्यादो को लगातार आगे ले जाते हुए 39 चालों में एक जोरदार जीत दर्ज की । 

6 राउंड के बाद कार्लसन और कार्याकिन 4 अंको के साथ पहले तो आनंद ,डींग ,टोपालोव ,तिमुर ,ग्रीसचुक और डेविड नवारा 3 अंको पर है जबकि अभी तीन राउंड और खेले जाने है । 

 

 

.
.
.
.
.