Sports

जालन्धर : पाकिस्तान के धाकड़ बल्लेबाज शाहिद अफरीदी आज भी दुनिया के खतरनाक बल्लेबाजों में से एक है। इसका एक सबूत वनडे और ट्वंटी-20 क्रिकेट में उनकी 100 से ज्यादा की स्ट्राइक रेट भी है। वनडे क्रिकेट में जहां अफरीदी ने 398 मैचों में 117 तो ट्वंटी-20 के 275 मैचों में 156 की स्ट्राइक रेट से कूटे हैं। वहीं, सबसे तेज शतक लगाने का रिकॉर्ड उनके नाम 17 साल तक भी रहा था। 

PunjabKesari

अफरीदी ने जब अपना क्रिकेट करियर शुरू किया था तब उन्होंने महज 37 गेंदों में 11 गगनचुंबी छक्कों के साथ शतक लगाकर पूरी दुनिया का चौका दिया था। धीरे-धीरे अफरीदी ने सभी देशों के खिलाफ ऐसी आक्रमक पारियां खेलनी शुरू कर दी। इस बीच अफरीदी को बूम-बूम नाम से जाना जाने लगा। हालांकि बूम-बूम  नाम आया कहां से इस बाबत किसी भी क्रिकेट फैंस को पता नहीं था। लेकिन अब अफरीदी ने अपने एक फैंस के सवाल का जवाब देते हुए बताया कि खुद ही बताया है कि उन्हें यह नाम एक भारतीय क्रिकेटर ने दिया था। वह भारतीय क्रिकेटर है- रवि शास्त्री।

PunjabKesari

बता दें कि अफरीदी का बूम-बूम नाम इतना हिट हुआ कि वह जब भी बैटिंग के लिए आते थे तो स्टेडियम में मौजूद क्रिकेट फैंस जोर-जोर से बूम-बूम के नारे लगाने लगते थे। धीरे-धीरे अफरीदी ने अपने बैट पर बूम-बूम का स्टिकर भी लगाना शुरू कर दिया। बाजारों में बूम-बूम नाम की टीशर्ट की भी खूब बिक्री हुई थी। 

PunjabKesari

PunjabKesari

बता दें कि रवि शास्त्री अभी भारतीय क्रिकेट टीम की कोच की भूमिका निभा रहे हैं।

.
.
.
.
.